Friday, June 21, 2024
Homeसंस्कृतिभाषापलायन पर गढ़वाली कविता, लेखक प्रदीप बिजलवान बिलोचन

पलायन पर गढ़वाली कविता, लेखक प्रदीप बिजलवान बिलोचन

पलायन पर गढ़वाली कविता-

टिहरी गढ़वाल के युवा लेखक प्रदीप बिजलवान बिलोचन जी के सहयोग से यहाँ उत्तराखंड की मूल समस्या पलायन पर गढ़वाली कविता प्रस्तुत कर रहें हैं।

इं देवभूमि का देवी देवता,
बोल किलै बिसराई तीन।
सारी दुनिया मां मान,
हमारू बढ़ाई जौंन,
अगाड़ी बढ़न की होड़ मां,
कुजानी क्या पौन की दौड़ मां,
न कुछ पाई अर न,
कुछ दी सकी तीन।
इं देवभूमि का देवी देवता,
बोल किलै बिसराई तीन।
बूढ़ा पराणी त जनु कैद,
सी रैगी हो जेलू मां।
शूर त राइ लग्यूं ऊं कू,
अपणा घर अर ,
गौ की गुठ्यारयों मां।
पुतला सी जनू बनिगेनी स्यू,
राईकी त्यूं शैरू बाजारू मां।
बीमार की चार जनू
दरद दिल मां लुकाई जैन।
इं देवभूमि का देवी देवता,
बोल किलै बिसराई तीन।
पितरों की बसाई इं भूमि मां,
त बोल देवताऊं दगड़ी सुध,
पितरों की भी तीन किलै
बिसराइ हां ये नया ,
जमाना की दौड़ मां ठोकर मि,
पर तिन किलै लाई हां।
हमारा पुरखों का सुपिन्या अब,
तीन ही साकार कनी,
दगड़या वैका जनु सूद,
ब्याज सहित तीन ही भनी।
जु आज भी हमारा ,
गढ़-कुमाऊं की शान छीन।
लौट जा अब अपणा पाडू मां लगदू,
यनू कि,जनि तू भरमाई हो कैन।
इं देवभूमि का देवी देवता भी,
त बोल किलै बिसराई तीन।
जख कु कोदू, झंगोरू ,
अर कंडाली,मारसू भी जड़ी,
बूटियों का रूप मां बिकदू।
ज़ख गाड़ गदर्यों कु पाणी,
सेंजी समलै,सेरा पुंगड्यो ,
नाज अर दाल दगड़ी हंसराज,
की क्यार्यों जनि सिंचदू।
जख की माटी की इक-इक ,
गारी जनि,इं धरा पर गिरियां ,
पसीना की जनि कथा ,
लगौनी छ।
तुम भी बढ़ा एकी ऐथर मेरा ,
दगड़यूं जनि धई लगै फिर ,
सी एक बारी या धरती ,
पावन देवभूमि बुलानी तुमुक छ।
इतना सब कुछ होन का,
बावजूद भी,
बोला बल तुम चुप किलै,
बैठ्यां छीन।
इं देवभूमि का देवी देवता भी,
बोल किलै बिसराई तीन।
बद्री विशाल यख,
शिवजी कू धाम।
पंडौ की स्वर्गारोहिनी छ,
अर उदनकारी सूरज कू ,
पड्डदू पैली पैलो घाम छ।
पारवती कु मैत यख,
जुंबा जुंबा पर पंचदेवू कू नाम छ।
त बोल इं भागमभाग मां या,
पावन सी भूमि किलै ,
बिसराई तीन।
इं देवभूमि का देवी देवता भी,
बोल किलै बिसराई तीन।
देशू-विदेशू का देख लौटी की,
स्वर्ग जनि धरती मां ,
यख आना छिन।
त बोला तुम किलै यख छोड़ी
दूर जाना छिन,पता छ मि ,
तैं यख रोजगार की ,
कमी तुम मानदा छिन।
लेकिन संभावना,
भी छ यख अपार,
बात या तुम भी गैल म्यारा,
धीरा-धीरा मानना छिन।
बकरी, भेड़, खरगोश,
मुर्गी, मौन पालन करी।
रोजगार का अवसर ढूंढी,
सकदा तुम,मीठा पानी हमारा,
मृदुजल का स्रोतों सी,
बिसलेरी जनि बंद,
बोतल मां भरी ,
वैतैं रोजगार कु जरिया ,
बनाई सकदा तुम।
पिल्टा अर गोबर सी ,
जनि जैविक खाद,
बनाई सकदा तुम।
जिरेनियम अर यख,
होन वाली,दूसरी औषधियों,
पर शोध करी वैकी,
खेती करी सकदा तुम।
यख् की मिट्टी अर जलवायु ,
पर शोध करी और भी लाभदाई
फसल उपजाई सकदा तुम।
यख की प्राणदायिनी जलवायु,
देखी योगा अर,प्राणायाम कु ,
एक केंद्र बनाई सकदा तुम।
होली जब इना स्वरोजगार ,
कू सृजन त तब यख ही ,
बढ़िया बढ़िया सी स्कूल खुलाला,
अस्पताल भी बढ़िया खुली,
सारी व्यवस्था यखी,
जब हम,करी योला।
अर तब लौटला लोग गांवों की ओर ,
तब स्वर्ग जनी इं देवभूमि तैं , पावन ,हम बनौला।
इतना सबकुछ होना का बावजूद,
भी किलै,खुद तैं दीन हीन चिताई तीन।
इं देवभूमि का देवी देवता भी,बोल किलै बिसराई तीन।
इं देवभूमि का देवी देवता भी,बोल किलै बिसराई तीन।

पंक्तियां कविताबद्ध प्रदीप बिजलवान बिलोचन
प्रदीप बिलजवान जी उत्तराखंड के लिए समर्पित रचनाएँ देवभूमी दर्शन के लिए नियमित भेजते रहते हैं। यदि आप भी अपनी गढ़वाली ,कुमाउनी रचनाएँ या उत्तराखंड पर जानकारी भरे लेख या लोक कथाएं संकलित करवाना चाहते हैं तो हमारे व्हाट्सप ग्रुप देवभूमी दर्शन यहाँ क्लिक करके ज्वाइन करें। और हमारे एडमिन नंबर पर अपनी फोटो और संक्षिप्त जानकारी के साथ कम से कम 500 शब्दों में अपनी रचना भेजें।

इसे भी पढ़े –

Best Taxi Services in haldwani

उत्तराखंड पलायन के दर्द को उकेरती यह करुण कहानी – पलायन की व्यथा का अंत
स्वरोजगार की जीती जागती मिसाल ,उत्तराखंड का पनीर गाँव | Paneer Village of Uttrakhand in hindi

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments