Monday, March 4, 2024
Homeसंस्कृतिलोकगीतसिद्धि के दाता विघ्न विनाशन भगवान गणेश को समर्पित कुमाऊनी होली गीत।

सिद्धि के दाता विघ्न विनाशन भगवान गणेश को समर्पित कुमाऊनी होली गीत।

रंग एकादशी से उत्तराखडं के कुमाऊं में रंग भरी खड़ी होलियां शुरू हो गई हैं।एकदशी से होलिकोत्सव तक खड़ी होलियों की धूम रहती है। होली की शुरुवात प्रथम पूज्य सिद्धिविनायक गणेश जी की होली सिद्धि के दाता विघ्न विनाशन से होती है। आज अपने इस पोस्ट में भगवान गणेश जी को समर्पित कुछ प्रसिद्ध कुमाऊनी होली गीतों का संकलन प्रस्तुत कर रहें हैं।

सिद्धि के दाता विघ्न विनाशन –

सिद्धि को दाता विघ्न विनाशन,

होली खेलें गिरजापति नन्दन।

गौरी को नन्दन, मूसा को वाहन ।

Best Taxi Services in haldwani

होली खेलें गिरजापति नन्दन।

लाओ भवानी अक्षत चन्दन,

पूजूँ मैं पहले जगपति नन्दन ।

होली खेलें गिरजापति नन्दन।

गज मोतियन से चौक पुराऊँ,

अर्घ दिलाऊँ पुष्प चढ़ाऊँ ।

होली खेलें गिरजापति नन्दन।

डमरू बजावै संभु-विभूषन,

नाचै गावैं भवानी के नन्दन ।

होली खेलें गिरजापति नन्दन।

सिद्धि के दाता विघ्न विनाशन

तुम सिद्धि करो महाराज, होली के दिन में –

तुम सिद्धि करो महाराज, होली के दिन में। गणपति गौर महेश मनावें, पर-पर मंगल काज,

होली के दिन में तुम..

राधा कृष्ण सकल बृजवासी, राखो सबकी लाज। राम लछीमन भरत शत्रुघ्न, रघुकुल के सिरताज।

ब्रह्मा विष्णु महेश मनावें, घर-घर गावें फाग। ब्रह्मा विष्णु सदा प्रतिपालक, खग दुःख को

इन्द्रादिक सुर कोटि तैंतीसा, राखो सबकी लाज। बालक वृद्ध सब होली खेलें, खेलत सब बृज नारा।

पाचों पांडव होली खेलें, खेलत द्रोपति नार। राम जी खेलें लछीमन खेलें, खेलत सीता नारि (माई) |

जगदम्बा नव दुर्गा देवी, राखो हमरि लाज। अबीर गुलाल के थाल सजे, घर-घर उड़त गुलाल ।

गिरजा सुत गणपति विघ्न हरो –

विघ्न हरो तुम सगुन करो गिरजा सुत गणपति विघ्न हरो ।

लम्बोदर गज बदन विनायक मस्तक चन्दन तिलक पड़ो।

चार भुजा मूसे की सवारी, विघ्न अमंगल देखि डरो।

हाथ में अंकुश शंख विराजै, श्वेत बदन एक दन्त खड़ो |

सुर नर मुनि सब, ध्यान धरत हैं, नहि गणपति बिन काज करो।

सुख में दुःख में और विपत में, नाम सुमिर से होय भलो।।

विनती करत हैं अरज करत हैं, विपत हमारी दूर करो ।

इन्हे भी पढ़े –

kumaoni holi geet – कुछ प्रसिद्ध कुमाउनी होली गीतों का संकलन

Holi in Uttarakhand -चीर बंधन का विशेष महत्त्व है कुमाउनी होली में।

विश्व प्रसिद्ध है उत्तराखंड की सांस्कृतिक कुमाउनी होली।

हमारे टेलीग्राम चैनल में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments