कुमाऊनी महिलाओं की सांस्कृतिक पहचान “नाखक टुकम बे लंबा पिठ्या”कुमाऊनी रोली टीका! || Kumaoni culture in hindi

बचपन में हमारी अम्मा (दादी जी) जाड़ों में हल्दी ,सुहागा,आदि के मिश्रण से घर का पिठ्या रोली तिलक बनाती थी। फिर घर के शुभ कार्यों में वहीं तिलक प्रयोग में लाया जाता था। ब्राह्मण ज्यू आते थे, पाठ मंत्रोच्चार के साथ सभी को तिलक करते थे। और घर कि महिलाओं को नाख से माथे तक एक लंबा पिठ्या रोली तिलक लगाते थे।

पहले हमारी समझ मे नही आता कि इनको, इतना लंबा तिलक क्यों ?बाद में जब रोजी रोटी के लिए परदेश गए, तब देखा,वहां की महिलाएं तो छोटा सा तिलक लगा रही। तब मेरी  समझ में आया कि कुमाउनी महिलायें ही लंबा तिलक ,जिसको नाखः टुकम बे पिठ्या बोलते हैं, वो हमारी सांस्कृतिक पहचान है। जैसे रंगीन  कुमाऊनी पिछोड़ा हमारी यूनिक पहचान हैं , वैसे ही हमारी मातृशक्ति का लंबा तिलक हमारी शान है।

मगर हमारी यह अब हमारी यह सांस्कृतिक पहचान विलुप्ति की ओर अग्रसर है। आधुनिक पीढ़ी की माताएं बहिने,अपने घर मे नही परदेस में रहती हैं, तो वहाँ के परिवेश के अनुसार उनको हमारा पारम्परिक तिलक ,लंबा पिठ्या लगाने में शर्म आती है।

और जो बहिने गांव में हैं वो भी लंबा पिठ्या नही लगाती। कारण एक ही है, आधुनिक चका चौध की अधूरी समझ।

आजकल तो यही चलता है, “जा चेला दुकानम बैटी 5 रुपे पिठ्या पूड़ी ले आ, और प्लेट में घोई ,शीश मे देखि गोल टिकक लगे ली”

मगर यह परम्परा विलुप्ति की कगार पर जरूर है,मगर कुछ क्षेत्रों की माताएं बहिने, इसे अभी भी जीवंत किये हुए है। कुमाऊं के कुछ क्षेत्रों में ,विवाह आदि शुभ अवसरों पर ,महिलाएं नाखम बे पिठ्या लगाई हुई मिल जाती हैं।

2 महीने पहले कि बात है, जब मगशीष के व्याह लग्न चल रहे थे। एक भूली है, मेरी मित्रता सूची में जो बचपन से दिल्ली रहती है। उसकी शादी भी थी ,उसकी शादी की दुल्हन के रूप में फ़ोटो देख कर मैं चौक गया! पहाड़ी पिछोड़े में,सिर पर राधा कृष्ण वाला मुकुट, नाख में टिहरी की चन्द्रहार नाथ, और सबसे विशेष नाखः टुकम बे पिठ्या! सच्ची उजई जयूनी जैसी लग रही थी भूली हमारी।

कहने का मतलब ये है कि कई लोग बाहर रहते हुए भी अपनी सांस्कृतिक जड़ो से जुड़े हैं। और इन्ही लोगो के कारण ये परम्पराएं बची हुई हैं। ये जो हमारा कुमाउनी परिधान है, यह एक यूनिक परिधान है, इसके साथ नाखः टुकम पे पिठ्या,का कॉम्बिनेशन है, इसमे हमारी बहिनो का सौंदर्य अलग ही तेजपूर्ण हो जाता है।

इसे भी पढ़े …..शुभकामनाएं कुमाऊनी और गढवाली में l Best wishes in Kumaoni and Gadwali

 

कुमाऊनी पिठ्या रोली तिलक
फ़ोटो साभार -प्रिंटसेट
https://pin.it/32vXQIC

कुमाऊँ की महिलाएं क्यों लगाती हैं, लंबा पिठ्या रोली तिलक –

अब आप को तो पता ही होगा, पहले की पीढ़ी इस परंपरा को निभाती आई है,लेकिन आधुनिक पीढ़ी की रुचि केवल कुमाउनी क्लचर को, सोशल मीडिया में लाइक पाने का जरिया बना रही हैं। वास्तविक जीवन मे इसका प्रयोग कम ही रह गया है।

किशोरावस्था मे मैंने पंडित ज्यूँ से उत्सुकतावश पूछ ही लिया, पाने ज्यूँ आमा और ईजा ,काखी को नाखम बे पिठ्या क्यों लगाते हो ?

तो पंडित ज्यूँ ने मुझे निम्न बिन्दुओं के माध्यम से इसका महत्व समझाया।

  • नाखम बे पिठ्या लगाने से महिला के सुहाग स्वस्थ ,तंदुरुस्त ,ओजपूर्ण एवं दिर्घायु होता है। और लंबा पिठ्या रोली तिलक केवल सुहागिन महिलाएं ही लगाती हैं।
  • नाखे टुकम बे पिठ्या लगाने वाली महिलाएं, सकारत्मक ऊर्जा से परिपूर्ण रहती हैं। आस पास सभी पर सकारात्मक प्रभाव डालती हैं।
  • पारम्परिक पिठ्या लगाने वाली,सूंदर लगती है।

यहां भी देखें …..उत्तराखंड के लोकल उत्पादों का पहला ऑनलाइन पोर्टल

फ़ोटो – भास्कर भौर्याल और अनिकेत ,


Pahadi Products

Related Posts