उत्तराखंड में मिला साल में दो बार फल देने वाला आम का पेड़ |कलमी(फजरी)आम

उत्तराखंड के स्नेही मित्रों के लिए खुश खबरी है। खुश खबरी यह है कि उत्तराखंड में साल में दो बार फल देने वाला आम का पेड़ मिला है।

दगडियों आम के शौकीन तो सभी हैं, किसे अच्छा नही लगता आम! और आम का व्यसाय भी खूब होता है। मगर विडम्बना ये होती है,कि आम की फसल एक ही बार होती है। हमे रसीले आमों का आनंद लेने के लिए एक साल का इंतजार करना पड़ता है।

मगर इन सभी समस्याओं का समाधान मिला है,उत्तराखंड  अल्मोडा के नौला गांव में। कलमी (फजरी) प्रजाति का यह आम का पेड़ मिला है,विकासखंड ताड़ीखेत के नौला गांव निवासी, श्रीमान देवकी नंदन चौधरी जी के बागवान से। देेवकी नंदन चौधरी जी बागवानी का शौक रखते हैैं।

इसे भी पढ़े…..कुमाऊनी महिलाओं की सांस्कृतिक पहचान “नाखक टुकम बे लंबा पिठ्या”कुमाऊनी रोली टीका!

श्रीमान देवकी नंदन चौधरी जी ने बताया कि, वो इस दो बार फल देने वाला पेड़ को 2004 में रामनगर के हिम्मतपुर डोटीयाल नर्सरी से लाये थे। उनका यह प्रयोग सफल रहा और चार साल बाद पेड़ ने फल देने शुरू कर दिए।

इस पेड़ की पहली फसल  जून जुलाई में होती है। और इसकी दूसरी फसल अक्टूबर नवंबर में तैयार हो जाती है। जून जुलाई में होने वाली आम की फसल में,प्रति आम का वजन लगभग 175 से 200 ग्राम होता है।

देखें-गज्जू मलारी, उत्तराखंड की एक लव स्टोरी।

दो बार फल देने वाला आम का पेड़
दो बार फल देने वाला,
फ़ोटो साभार -अमर उजाला

अक्टूबर और नवंबर वाली फसल में प्रति आम का वजन लगभग 160 से 175 ग्राम तक  होता है। साल में दो बार फल देने

वाले आम के पेड़ की लंबाई लगभग 10 फुट की होती है। इसका आम काफी मीठा होता है। उत्तराखंड उद्यान विभाग के अधिकारियों के अनुसार, गांव में एक प्रशिक्षण के दौरान इसका पता चला। उत्तराखंड उद्यान विभाग के अधिकारियों का कहना है, कि वे इस पेड़ पर और खोज करेंगे।

कुल मिलाकर निष्कर्ष ये हुवा कि अब जल्द ही हम सर्दियों में भी आम का स्वाद ले सकेंगें।

*********************************************

परदेश में गहत-
परदेस में काले भट्ट-
परदेस में पहाड़ी समान ऑनलाइन मंगाने के लिए
क्लिक करें –पहाड़ी समान कि ऑनलाइन वेबसाइट

Pahadi Products

Related Posts