Tuesday, March 5, 2024
Homeसंस्कृतिभाषाकुमाउनी भाषा मे शादी का कार्ड | Wedding card matter in Kumaoni

कुमाउनी भाषा मे शादी का कार्ड | Wedding card matter in Kumaoni

कुमाउनी मे शादी का कार्ड । कुमाउनी भाषा संरक्षण में ,अपना अतुलनीय योगदान देने वाले लेखक, कवि, गायक ,कार्यक्रम संचालक श्री राजेन्द्र ढैला जी ने शादी कार्ड का निमंत्रण विवरण कुमाऊनी में लिखा है । अपनी संस्कृति अपनी भाषा को आगे बढ़ाने के लिए, और अलग यूनिक शादी कार्ड अपनी शादी में कुछ नयापन लाने के लिए आप भी अपनी दुधबोली में शादी कार्ड जरूर छपवाएं। प्रस्तुत  सैंपल कार्ड में मनोरंजन हेतु, लेखक ने कुछ हास्य का प्रयोग किया है। ( Kumaoni wedding card matter ) यदि आप कुमाऊनी में शादी का कार्ड छपवाना चाहते हैं,तो प्रस्तुत विवरण में से हास्य निकाल कर अपना विवरण भर लें।

कुमाऊनी मे शादी का कार्ड
शादी का कार्ड कुमाऊनी भाषा में

!! ऊँ श्री गणेशाय नमः !!

 

विघ्न हरिया,मंगल करिया,श्री गणपति महराज।

Best Taxi Services in haldwani

पैल न्यूत तुमन कें छू, पुर करिया सब काज।।

 

# मांगलिक कार्यक्रम #

 

8 मई 2019 हूँ (बैशाख २५ पैट बुद्दाक दिन)

गणेश पुज,स्वाँव पथाई/हल्दी……रत्तै शुभलग्नानुसार

महंदी……… रात ८ बाजी

 

9 मई 2019 हूँ (बैशाख २६ पैट भीपै दिन)

बरियात जालि (प्रस्थान)…….रत्तै ८ बाजी

ब्या काज (पाणिग्रहण संस्कार)…….दिन में लग्नानुसार

बरियात वापसी……… ब्याव ५ बाजी

 

10 मई 2019 हूँ (बैशाख २७ पैट शुक्काक दिन)

स्यैंणियाँक नाच गीत (महिला संगीत)…..दिन में २ बाजी

खाण पिण (प्रीतिभोज)……रात ८ बाजी

जानकारी-सबै कार्यक्रम हमार घरै में संपन्न ह्वाल्,कांई बैंकट हॉल में जाणैं जरवत न्हांतीन।

 

!! ऊँ श्री इष्ट देवाय नमः !!

 

सर्व मंगल मांगल्ये, शिवे सर्वार्थ साधिके।

शरण्ये त्रयंबके गौरी, नारायणी नमोस्तुते।।

 

महराज,

         इष्ट देवों कृपाल हमर च्यल,

चिरंजीवी बूरूँष

(नाती श्रीमती अनारी देवी एवं

श्री दाड़िम सिंह)

दगाड़

आयुष्मती प्योली

(चेली श्रीमती गोदावरी देवी एवं श्री गुड़हल सिंह)

निवासी गौं-ताल, लमखेत

जिल्ल-गल्माड़

के 

परिणय सूत्र बन्धनाक

पावन बेला में ऐबेर स्यैंणियाँक नाच गीत (महिला संगीत) और दगाड़-दगाड़ै घर बरियात में खाण पिणक आपूं कैं न्यूत छ,  हमर काम काज में ऐबेर बर ब्योली कैं आशीर्वाद देला तै हमनकैं भल लागल भागी।

 

“हम आजी नानु-नान छाँ, कसिक ऊंनु बुलूंण हूँ।

हमर काकूक ब्या में तुम, भुलि जन जाया ऊंण हूँ।।”

“पूलम,खुमानी

जमीर,निमू”

 

दर्शनाभिलाषी छन

श्री………

………….

फल कुटुंब कबिल और 

सांक संबंधी मितुर।

 

विनीत

श्रीमती मासी देवी एवं

श्री फूल सिंह

गौं-पालमपुर

डाकखाण-बिनैक (पूरब रोड मोतीया गौं)

हल्द, जिल्ल-नैनी

मुबैल नंबर……….।

 

नोट-खबरदार शराब पिबेर क्वे जन आया, लगन में जगन करला पैं सिसौंण लगाई जाल।।

 

  • राजेंद्र ढैला,काठगोदाम.

लेखक :  उपरोक्त लेेख कुमाऊनी भाषा में शादी का कार्ड हमने श्री राजेंद्र ढैला जी के फेसबुक वॉल से साभार  उनकी आज्ञा से लिया है। राजेंद्र ढैला जी वर्तमान में काठगोदाम में रहते हैं । राजेंद्र ढैला जी कुमाऊनी संस्कृति एवं भाषा संरक्षण तथा  प्रचार में अपना अतुलनीय योगदान दे रहे हैं। राजेंद्र ढैला जी बहुत अच्छे लेखक कवि, गायक, और कार्यक्रम संचालक हैं। इसके साथ साथ वाद्य यंत्रों का भी अच्छा ज्ञान है। उन्हें कई मंचो से सम्मानित भी किया जा चुका है। वर्तमान में राजेंद्र ढैला जी ,अपने दो और मित्रों, श्री राजेंद्र प्रसाद एवं श्री गिरीश शर्मा के साथ मिल कर ,टीम घुगुती जागर नमक यूट्यूब चैनल का संचालन कर रहे हैं।

घुगुति जागर

टीम घुगुती जागर चैनल में जाने के लिए ऊपर दी गई फोटो क्लिक करे।

 

पहाड़ी कहावतें | कुमाउनी मुहावरों का आनन्द लेने के लिए क्लिक करे।

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments