Wednesday, June 19, 2024
Homeसंस्कृति"हवीक या हबीक" उत्तराखंड कुमाऊं में पितृ पक्ष पर निभाई जाने...

“हवीक या हबीक” उत्तराखंड कुमाऊं में पितृ पक्ष पर निभाई जाने वाली ख़ास परम्परा

भाद्रपद और अश्विन माह में पितृपक्ष पर समस्त सनातनियों की तरह उत्तराखंड वासी भी, बड़ी श्रद्धा और खुशी से अपने पूज्य पूर्वजों को तर्पण देते हैं। उनका श्राद्ध करते हैं, श्राद्ध का अर्थ होता है, जो श्रद्धा से दिया जाय। मूल सनातन धर्म के पितृ पक्ष को या अन्य रिवाजों को प्रत्येक राज्य और प्रत्येक संस्कृति में इनकी परम्पराओं में थोड़ा अंतर होता है। इसी प्रकार उत्तराखंड के कुमाउनी समाज में भी पितृ पक्ष पर, कुछ खास रिवाज होते हैं। इन खास रिवाजों में से एक रिवाज है, हवीक या हबीक रखना।

कुमाऊं में पितृपक्ष पर अपने पितरों के श्राद्ध के पहले दिन श्राद्ध करने वाला, उपवास लेता है। सूर्यास्त से पहले एक बार भोजन किया जाता है। भोजन से पहले गाय और कौवो  को भोज्य पदार्थ दिया जाता है। पहले दिन व्रत रखने का उद्देश्य यह रहता है ,कि श्राद्ध के दिन अपने पूर्वजों को शुद्ध मन पिंड तर्पण किया जा सके। कुमाऊं के कुछ भागों में इसे ‘एकबख्ता’ भी कहते हैं। कई जगह  इस दिन कढ़ी-चावल (झोई भात) बनाई जाती है। दूसरे दिन श्राद्ध के दिन मौसमी फल, पूरी सब्जी खीर ,कढ़ी चावल आदि भोज्य पदार्थों के साथ कुल पुरोहित की उपस्थिति में ,अपने पूर्वजों को पिंडदान किया जाता है। अब बात करते है हबीक का अर्थ ,या हवीक के अर्थ के बारे में। कुमाऊं में कहीं -कहीं इसे हबीक कहते हैं ,कही हवीक।  कही कही हबीक  शब्द  का प्रयोग किया जाता है। वैसे यह शब्द कुमाउनी समाज में कब आया और क्यों आया और कैसे आया  इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है।

इसका प्रयोग पितरों की पुण्यतिथियों के सम्बन्ध में अनुष्ठित किये जाने वाले श्राद्ध की आनुष्ठानिक परम्परा के सन्दर्भ में किया जाता है। इसके अंतर्गत श्राद्ध की तिथि के नियतपूर्व श्राद्धकर्ता को क्षौरकर्म करवाना होता है। दिन भर निराहार रहकर ,दिन में सूर्यास्त से पूर्व एक बार भोजन करता है। 

हवीक का शाब्दिक होता है , हवि +इक  हवि का अर्थ होता है ,आहुति देना। और इक का मतलब है एक बार। इस प्रकार हवीक शब्द का अर्थ हुवा एक आहुति देना। अर्थात अपने पूर्वजों को शुद्ध अंतःकरण से पिंडदान करने के लिए , एक दिन पूर्व अपनी भूख की हवि देना या अपनी जठराग्नि को एक ही आहुति देना।

Best Taxi Services in haldwani

प्रसिद्ध भाषाविद लेखक श्री सुरेश पंत जी ने कुछ इस प्रकार हवीक या एकबखत का अर्थ बताया है, एकाबखत “एक+अभुक्त” से है। सात्त्विकता के लिए एक बार अभुक्त (बिना भोजन) रहकर शाम को भोजन का विधान है। भोजन कैसा? हबीख – हविष्य, अर्थात् यज्ञ में आहुति देने योग्य पवित्र। हविष्य घी या घी में बने हुए भोजन को भी कहा जाता है। नीति कहती है-

“निरामिषं हविष्यं वा सकृद्भुञ्जीत नान्यथा॥”
अर्थात :निरामिष या हविष्य भोजन एक बार किया जाय।

इसे भी पढ़े –

शौशकार देना या अंतिम हयोव देना ,कुमाउनी मृतक संस्कार से संबंधित परंपरा
देवप्रयाग पितृपक्ष का सबसे खास तीर्थ

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments