उत्तराखंड बंद
राज्य समाचार विशेष

उत्तराखंड बंद – 2अक्टूबर 2022 को अंकिता भंडारी और रामपुर तिराहा कांड के पीड़ितों के लिए न्याय की मांग

02 अक्टूबर को समस्त देश बापू व् लाल बाहदुर शास्त्री जी की जयंती मनाता है। किन्तु उत्तराखंड इसे काला दिवस के रूप में मनाता है। 02 अक्टूबर 1994 का दिन उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारियों के लिए काला दिवस साबित हुवा। क्योंकि 1 अक्टूबर 1994 की रात अलग उत्तराखंड की मांग के लिए दिल्ली जा रहे आंदोलनकारियों पर मुजफ्फर नगर के रामपुर तिराहे पर तत्कालीन प्रशाशन ने गोलियाँ चलाई और कई आंदोलनकारी शहीद हो गए। और तत्कालीन उत्तर प्रदेश की पोलिस पर उत्तराखंड की महिला आंदोलनकारियों के साथ दुराचार के आरोप भी लगे। इस कांड पर आज भी उन पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिला है….. इस साल 2022 में परीक्षा घोटाला और उसके बाद अंकिता भंडारी हत्याकांड ने उत्तराखंड की जनता को झकझोर कर रख दिया है। इसलिए 1uk (गैर राजनितिक संगठन ) उत्तराखंड क्रांतिदल , तथा अन्य उत्तराखंड के सामाजिक संगठनों ने 02 अक्टूबर 2022 को ,रामपुर तिराहा के पीड़ितों और अंकिता भंडारी के लिए न्याय और उत्तराखंड को भ्रष्टाचार मुक्त करने की मांग के लिए उत्तराखंड बंद की घोषणा की है।

शुक्रवार को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के शहीद स्थल में आयोजित बैठक में भी यही निर्णय लिया गया कि , 1994  रामपुर तिराहा के अत्याचार और वर्तमान में उत्तराखंड की स्थिति ,अंकिता भंडारी की इंसाफ की मांग के लिए और कई मुद्दों पर जनांदोलन को आगे बढ़ाते हुए 02 अक्टूबर को शांति पूर्ण उत्तराखंड बंद रखा जाय। इस बैठक के बाद आयोजित प्रेस वार्ता में सामाजिक संगठनों के प्रवक्ताओं और विपक्षी दलों के प्रवक्ताओं ने बताया कि ,व्यापारिक संगठनों ,टेक्सी  यूनियनों और छात्र संगठनों ने इस बंद को समर्थन दिया है।

01 अक्टूबर की शाम को उत्तराखंड के लोगों और सामजिक संगठनों ने कई जगहों पर मशाल जुलूस निकाले। कई बाजारों में व्यपारियों ने भी शांतिपूर्ण उत्तराखंड बंद को समर्थन दिया है।

इन्हे भी पढ़े _

कुमाउनी फिल्म माटी पछ्याण का रिव्यू 

अंकिता भंडारी हत्याकांड के बाद क्या है उत्तराखंड के समाज की मनस्थिति

देवभूमी दर्शन के ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।