Thursday, May 30, 2024
Homeसमाचार विशेषअंकिता भंडारी हत्याकांड के बाद क्या है उत्तराखंड के समाज की मनस्थिति

अंकिता भंडारी हत्याकांड के बाद क्या है उत्तराखंड के समाज की मनस्थिति

अंकिता भंडारी हत्याकांड ने  उत्तराखंड को हिलाकर रख दिया है। जैसा की उत्तराखंड के लगभग सभी समर्पित न्यूज़ पोर्टलों और सोशल मीडिया पर संचालित होने वाले पेजों के माध्यम से आपको जानकारी विस्तार से मिल गई होगी। जैसा की आप सबको पता है, यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र में वनधारा नामक रिसोर्ट की अंकिता भंडारी नाम  रेसेप्सनिस्ट बीते 5 दिन से लापता थी। सोशल मीडिया और जन दबाव में आनन् फानन में कल राजस्व पोलिस ने राज्य पोलिस को केस ट्रांसफर किया, और बीते 24 घंटे में पोलिस ने अंकिता की मृत्यु का खुलासा करके मुख्य आरोपियों को पकड़ लिया। आरोपियों की निशानदेही पर चीला डेम के आस पास लाश की तलाश की जा रही है। इस लेख के लिखे जाने तक लाश नहीं मिल पायी थी और लापरवाही बरतने के जुर्म में, पटवारी विवेक कुमार को निलंबित कर दिया गया है।

Hosting sale

अब आते हैं इस केस के बाद उत्तराखंड के समाज की हालत क्या है ? क्या मनस्थिति है उत्तराखंड निवासियों की? एक तरफ जहा सोशल मीडिया पर #justiceforankitabhandari चल रहा। लोग अलग अलग माध्यमों से और अलग तरह से अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। उधर लक्ष्मणझूला थाने की गाड़ी बीच में रोक कर आरोपियों की पिटाई कर दी। लेकिन इससे भी अलग आज हमे सामान्य जनता के बीच एक अलग और डरवाना सत्य महसूस हुवा।

इस घटना से जुड़ा हुवा एक वाकया आज हमारे टीम मेंबर के साथ हुवा,उनकी जानकारी के आधार पर इस लेख का संकलन किया है। वाकया इस प्रकार है कि, आज हमारे टीम मेंबर देहरादून में एक बस में यात्रा कर रहे थे। थोड़े समय में उनके बगल में बैठी एक आंटी जी को गढ़वाल से उनकी किसी परिचित भतीजी या कन्या का फोन आया। फोन पर वो कन्या शायद गांव से उनके पास देहरादून आने का आग्रह कर रही थी।  इधर से आंटी जी ने बड़े प्यार जवाब दिया, बाबू  गांव में ही रहो। वही सिलाई कढ़ाई सीखो। यहाँ देहरादून हरिद्वार में माहौल बहुत खराब चल रहा है। नौकरी जिंदगी से बड़ी है क्या ? इधर ऋषिकेश में पौड़ी की नोनी (लड़की) अंकिता 5 दिन से गायब है बल। पता नहीं क्या हुवा होगा उसके साथ ?

अंकिता भंडारी
अंकिता भंडारी

आंटी जी के इस जवाब  ने मन मष्तिष्क को अंदर तक झकझोर दिया। एक तरफ सरकार बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ का नारा देती है। दूसरी तरफ माता -पिता  अपनी  बेटी की सुरक्षा की वजह मजबूरन उसके पैरों में बेड़ियाँ डाल रहें हैं। उसके खुलकर जीने पर पाबंदी लगा रहें हैं। यहाँ सभ्य समाज को इन आपराधिक तत्वों से डरना छोड़ कर एकजुटता से इनका सामना करना चाहिए। समाज में डर का माहौल पुलकित जैसे आपराधिक प्रवृति के लोगों के अंदर होना चाहिए ,न कि निर्दोष माँ बाप और उनकी बच्चियों के अंदर।

Best Taxi Services in haldwani

सरकार को भी सुनिश्चित करना होगा कि सभ्य समाज के लोगों के अंदर ऐसा डर ना हो जैसा बस में इस आंटी जी के अंदर था।

इन्हे भी पढ़े _

हवीक या हबीक उत्तराखंड कुमाऊं में पितृ पक्ष पर निभाई जाने वाली ख़ास परम्परा।
बटर फेस्टिवल उत्तराखंड का अनोखा उत्सव जिसमे मक्खन ,मट्ठे ,दही की होली खेली जाती है।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments