Lumpy Virus
राज्य समाचार विशेष

Lumpy Virus : लम्पी वायरस की रोकथाम के लिए उत्तराखंड सरकार ने जारी की है ये गाइडलाइन्स

Lumpy Virus ( लम्पी वायरस ) अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड में भी फैलने लगा है। उत्तराखंड के मैदानी इलाकों के साथ पहाड़ों में भी इस बीमारी ने दस्तक दे दी है। उत्तराखंड में लम्पी वायरस की रोकथाम के लिए उत्तराखंड सरकार ने SOP जारी की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तराखंड में लम्पी वायरस से पशुओं की मृत्यु दर 1 .6 प्रतिशत है।  जबकि पशुओं के ठीक होने की दर 40 प्रतिशत है। 26 सितम्बर सोमवार से उत्तराखंड में पशुओं को लम्पी वायरस से बचाने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जायेगा।

पशुपालन मंत्री सौरव बहुगुणा ने लोगो से अपील की कि ,अपने पशु का बीमा अवश्य कराएं ,ताकि किसी दुर्घटना पर उसका मुआवजा मिल सके। पशुपालकों की सुविधा के लिए सरकार ने टोल फ्री नंबर 18001208862 जारी किया है। इस नंबर पर लम्पी वायरस के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। रोग से ग्रस्त पशुओं के व्यापार पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

Lumpy Virus : लम्पी वायरस की रोकथाम के लिए उत्तराखंड सरकार ने जारी की है ये SOP :-

  • रोग से ग्रसित पशुओं को अन्य पशुओं से अलग रखें।
  • पशुओं के गौशाला में ,मच्छर ,मखियों को नियंत्रित करने के लिए दवाई या धुवे का इस्तेमाल करे।
  • Lumpy Virus (लम्पी वायरस ) से ग्रसित पशु को पौष्टिक चारा खिलाएं।
  • लम्पी रोग से ग्रसित व् संपर्क में आये पशु को गोटपॉक्स वैक्सीन न लगाएं।
  • लगभग 25 लीटर के आसपास पानी में फिटकरी और नीम के पत्ते घोल कर नहलाएं।
  • लम्पी वायरस के कारण मृत पशु की देह को खुली जगह में न फेंके। उसे अच्छे से गड्डे में दफना दे। ताकि संक्रमण फैलने का खतरा न हो।

इन्हे भी पढ़े _

G20 Summit 2022 में मेहमानों के लिए खास आकर्षण होंगे उत्तराखंड के ये उत्पाद !

उत्तराखंड परीक्षा घोटाले, पर उत्तराखंड में राजनीतिक समर्थकों की स्थिति।

मदरसों की गतिविधियों का होगा सर्वे: सीएम धामी

साहित्य अकादमी संस्कृत बाल साहित्य पुरस्कार की घोषणा, प्रो. वरखेड़ी ने दी बधाई

अब शहर में अपने पहाड़ी उत्पाद ऑनलाइन मंगाएं। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।