Saturday, June 15, 2024
Homeसंस्कृतिपावड़ा गीत | किसी वीर या देवता की वीरता का बखान करने...

पावड़ा गीत | किसी वीर या देवता की वीरता का बखान करने वाली लोकगीत विधा।

पावड़ा :

उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में किसी वीर पुरुष अथवा देवता  के जीवन से संबंधित उसके वीरता पूर्ण घटनाओं का वर्णन जिन गीतों में किया जाता है उन्हें गढ़वाल में पावड़ा गीत कहा जाता है। यह कुमाऊँ के “कटकु ” , भड़गामा ,या राजस्थान के रासो गीत की तरह होते हैं गढ़वाल में देवताओं के पावड़ो में गोरिल देवता एवं नागराजा के पावड़े काफी प्रसिद्ध है।

गोरिल के पवाड़े में कहा गया है कि तैमूर लंग अपनी विशाल तुर्की सेना को लेकर पहाड़ों पर आक्रमण एवं लूटपाट करने की दृष्टि से दिल्ली से चलता हुआ बिजनौर जिले में स्थित गढ़मुक्तेश्वर के पास अपने कटक के साथ आगे बढ़ रहा था तो गोरिल ने अपने महर एवं फड़्त्याल वीर योद्धाओं एवं नाथपंथी साधुओं की फौज को संगठित करके उस पर आक्रमण करके उसके प्रसार को आगे बढ़ने से रोक दिया था।
पावड़ा गीत | किसी वीर या देवता की वीरता का बखान करने वाली लोकगीत विधा।
इस प्रकार गढ़वाल पर मंडराते हुए इन क्रूर विधर्मियों के विध्वंश से इसे बचा लिया था। देवता संबंधी इन पावड़ों का गान सामान्यतः जागरों के समय यहां के वाद्यवादकों ढोली, औजी, दास आदि के द्वारा किया जाता है। नागर्जा के पंवाड़े में उसे श्री कृष्ण, गोविन्द आदि नामों से पुकारा जाता है। उसके घड़ियालें में उसकी उन बाललीलाओं, जो उन्होंने ब्रज में की थीं, उनका बखान किया जाता है।
इनके अलावा गढ़वाल की वीरांगना तीलू रौतेली के पावड़े लोगों के बीच खूब प्रचलित हैं। और कत्यूरी राजा धाम देव के पावड़े गाये जाते हैं। और सरु कुमेन और गढ़ु सुम्याल के प्रेम कथा के पावड़े गाये जाते हैं।
इन्हे भी पढ़े _
Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments