Sunday, April 14, 2024
Homeसंस्कृतिखान-पानउत्तराखंड का पहाड़ी फल हिसालू, जानिए फायदे और नुकसान।

उत्तराखंड का पहाड़ी फल हिसालू, जानिए फायदे और नुकसान।

उत्तराखंड की पहाड़ियों के बीच कटीली झाड़ियों में  उगने वाला यह फल , हर एक उत्तराखंड निवासी की बचपन की यादें समेटे हुए दिव्य फल है। कुमाऊँ क्षेत्र में इसे हिसालू  और गढ़वाल क्षेत्र में इसे हिसर नाम से जाना जाता है।

हिसालु या हिसर पहाड़ी फल का परिचय –

हिसर को हिमालय की रसबेरी कहा जाता है। हिसालू का लैटिन नाम  Rubus elipticus है। यह rosaceae वर्ग की काँटेदार झाड़ीनुमा वनस्पति है। हिसालू ( hisalu )  या हिसर ( hisar ) का फल छोटे छोटे , नारंगी रंग के रस भरे दानों से मिलकर बना होता है। कम पका हुआ हिसालू हल्का खट्टा, मीठा होता है। लेकिन जो एक दम लाल पका होता है। वो एकदम मीठा और मुंह मे एकदम घुल जाता है।

उत्तराखंड का पहाड़ी फल हिसालू बहुत ही लाभदायक फल है। मगर यह कटीली झाड़ियों में उगता है। हिसालू की झाड़ियों  के कांटे बहुत ही खतरनाक होते हैं। इसी लिए उत्तराखंड कुमाऊँ के प्रसिद्ध कवि गुमानी पंत जी ने हिसालू ( Hisalu)  एक कविता की कुछ लाइनों से इसका वर्णन किया है।

हिसालू की जात बड़ी रिसालू।

Best Taxi Services in haldwani

जा जाँ जाछे उधेड़ खाछे।।

यो बात को कवे गतो नि मानन,

दुद्याल गोरुक लात सैणी पडनछ।।

अर्थात हिसालू की वनस्पति, बड़ी गुस्सेल होती है। जहॉ तहां खरोच लगा देती है। मगर कोई भी इस बात का बुरा नही मानता, क्योंकि दूध देने वाले गाय की लात भी सहन करनी पड़ती है।

हिसालू (Hisalu ) ,हिसर ( Hisar ) भारत के लगभग सभी हिमालयी राज्यों में पाया जाता है। भारत के अलावा यह फल नेपाल, पाकिस्तान, पोलैंड, सर्बिया आदि देशों में भी पाया जाता है। विश्व मे हिसालू की लगभग 1500 प्रजातियां पाई जाती है। हिसालू ( hisalu ) जैसी  दिव्य औषधीय गुणों से युक्त फल को संरक्षित करने की दिशा में इसे IUCN द्वारा  World’s 100 worst invasive species  में शामिल किया गया है।

 इसे भी पढ़े – प्रकृति ने उत्तराखंड को वरदान में दी है, ये प्राकृतिक रोग प्रतिरोधक वनस्पति

आमतौर पर हिसालू ( himalayan rasberi ) 2500 से 7000 फ़ीट की उचाई पर मिलता है। लेकिन वर्तमान जलवायु परिवर्तन परिस्थितियों का प्रभाव हिसर ( Hisalu ) पर भी पड़ा है, जिसके कारण यह बहुत ज्यादा उचाई में उगने लगा है।

हिसालू  के लाभ-

Hisalu में अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं। हिसर में विटामिन सी  , फाइबर , मैगनीज ,जिंक, आयरन, कैल्शियम, मैग्नेशियम, कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। यह अत्यधिक मीठा होने के बावजूद भी , इसमे शुगर की मात्रा एकदम बहुत कम होती है। उपरोक्त पोषक तत्वों के आधार पर हिसर के निम्न औषिधि लाभ हैं।

  • हिसर में  प्रचुर मात्रा में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जिससे हिसालू सबसे अच्छा रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने वाला फल बन जाता है।
  • हिसर के फलों का रस , बुखार, पेटदर्द , खांसी, एवं गले के दर्द में लाभदायक है।
  • इसके तने की छाल का , तिब्बती चिकित्सा पद्वति में कामोत्तेजक दवाई के रूप में किया जाता है।
  • हिसर के फल के नियमित उपयोग से किडनी की बीमारियों में लाभ मिलता है। तथा इससे नाड़ी दुर्बलता भी दूर की जाती है।
  • हिसर मूत्र संबंधित बीमारियों तथा, योनिस्राव बीमारियों में लाभदायक माना जाता है।

हिसालू

हिसालू के नुकसान –

हिसालू एक पहाड़ी जंगली फल है। हिसर सभी दिव्य गुणों से युक्त है। वैसे इसके कोई नुकसान नही हैं। लेकिन अधिक सेवन से पेट खराब की समस्या हो सकती है। अत्यधिक सेवन किसी भी चीज का नुकसान दायक होता है। इसलिये प्राकृतिक दिव्य फल का संतुलित उपयोग अमृत का लाभ दे सकता है।

इसे भी पढ़े – पहाड़ के दिव्य मसाले जम्बू और गन्दरायण

हिसालू  के उपयोग

हिसालू एक पहाड़ी जंगली फल है। वैसे तो ऐसे तोड़ते ही कहा लेने की इच्छा करती है। और ये मुह में घुल जाता है। मगर कुछ रचनात्मक प्रवर्ति के लोग इसके नए नए प्रयोग करके खाते हैं। कुछ लोग बहुत सारे हिसर तोड़ कर इसमे पहाड़ी पिसा हुआ नामक मिला कर, इसका चाट बना कर खाते हैं।

हिसर शेक की रेसिपी –

हिसर का सबसे अच्छा प्रयोग है ,  इसका का शेक बना कर पिया जाय। हिसालू का शेक अति पौष्टिक और स्वादिष्ट होता है। खूब सारे हिसर इकट्ठा करके, गाव के शुद्ध दूध में मिला कर थोड़ी चीनी मिला कर बड़ा स्वादिष्ट दिव्य पेय बनता है। हिसर शेक पौष्टिक और स्वादिष्ट रेसिपी है। थोड़ा हिसर इकट्ठा करने में समय लगता है। लगभग आधा किलो हिसर जमा हो गए तो, गाव का शुद्ध दूध मिलाकर पौष्टिक दिव्य हिसर पे­य बना सकते हैं। प्रयोगधर्मिता के रूप में आप इसमे , केले या अन्य चीजें मिला कर ऐसे और स्वादिष्ट और पौष्टिक बना सकते हैं।

देवभूमि दर्शन के व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

हमारे फ़ेसबुक पेज पर जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments