उत्तराखंड में सावन

उत्तराखंड का सावन 2022 – क्यों अलग मनाया जाता है, उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्र और नेपाल में सावन || Sawan month in Uttarakhand

उत्तराखंड में सावन 2022  |  Savan month 2022 in Uttarakhand

संम्पूर्ण देश मे सावन 14  जुलाई 2022  से शुरू हो रहा है, और  12  अगस्त 2022  को खत्म होगा। किन्तु उत्तराखंड में पहाड़ का सावन 16 जुलाई हरेला त्यौहार के दिन से शुरू होगा।  उत्तराखंड के सावन का पहला सोमवार 18 जुलाई 2022  को आएगा । 15  अगस्त 2022  को खत्म हो जाएगा पहाड़ियों के सावन । उत्तराखंड पहाड़ी क्षेत्रों तथा नेपाल का सावन अलग और देश के अन्य भागों में सावन अलग अलग क्यों होता है ?

 उत्तराखंड में सावन –

उत्तराखंड का सावन ,हिमाचली सावन और नेपाल का सावन अलग क्यों होता है ?

इस सवाल का जवाब हमे काशी के प्रसिद्ध ज्योतिषचार्य पंडित गणेश मिश्र जी ,तथा अन्य ज्योतिश्चरयों के लेख में मिलता है। उनके अनुसार ऐसी स्थिति प्रत्येक वर्ष हिन्दू पंचांग व्यवस्था के कारण होती है। देश के उत्तर मध्य और पुर्वी भागों ने पुर्णिमा के बाद नए हिन्दू महीने की शुरुआत होती है। इस पंचांग व्यवस्था में ,उत्तराखंड के मैदानी क्षेत्र, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और मध्य प्रदेश आते हैं। इसलिए उनके सावन पूर्णिमा से शुरू हो कर पूर्णिमा के आस पास खत्म होते हैं।

नेपाल, उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्र, हिमाचल के कुछ हिस्सों में सौर पंचांग के अनुसार महीने शुरू व खत्म होते हैं। अर्थात जब सूर्य भगवान् एक राशि से दूसरी राशि परिवर्तन करते हैं। उत्तराखंड और नेपाल में उस दिन से महीना शुरू और ख़त्म होते हैं।  सूर्य की राशि परिवर्तन  संक्रांति कहते हैं। यह संक्रांति हमेशा आंग्ल महीनों के बीच में पड़ती है। अर्थात प्रतिमाह संक्रांति 15 या 16 तारीख के आस पास पड़ती है। इसलिए हमेशा उत्तराखंड का सावन का महीना 16 जुलाई के आस पास से 15 अगस्त में ख़त्म हो जाता है। 

भारत के दक्षिण और पश्चिमी भाग में, हिन्दू माह अमावस्या के दिन से शुरू होते हैं।  अमावास के आस पास आकर ख़त्म हो जाते हैं। इसलिए इन्हें अमांत माह कहते हैं। इसलिए इन  क्षेत्रों के सावन भी अमावास  के दिन से शुरू होकर अमावास पर ख़त्म होते हैं।

कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा ,उत्तराखंड के बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।में

सावन माह से जुड़ी पौराणिक कथाएं :-

कहा जाता है, कि देव और असुरों ने मिल कर इसी माह समुद्र मंथन  किया था। जब समुंद्र मंथन से हलाहल विष निकला तो उसे धारण करने की हिम्मत किसी को नही हुई । तब भगवान शिव ने हलाहल कालकूट विष को धारण किया। विष के  भयंकर प्रभाव से भगवान शिव का शरीर जलने लगा, तब समस्त देवों ने भगवान भोलेनाथ पर जल अर्पण किया। तब भगवान शिव की जलन कम हुई। तब से सावन माह और भगवान भोलेनाथ को जल चढ़ाने की शरुवात हुई।

 

कांवड़ यात्रा कैसे शुरू हुई ?

कावड़ यात्रा के बारे में कहा जाता है, कि सर्वप्रथम  भगवान परशुराम जी  भगवान शिव को कांवड़ से लाकर जल चढ़ाया था, तब से कांवड़ की शुरुआत हुई । और कुछ लोगों का मानना है कि, त्रेतायुग में श्रवण कुमार ने सर्वप्रथम कांवड़ यात्रा की शुरुआत की थी।


देवभूमी दर्शन के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

अनोखा है, गोविंपुर अल्मोड़ा का प्रसिद्ध सितेसर महादेव मंदिर , सम्पूर्ण जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

Rakhi Festival Sale 2022

Related Posts