Wednesday, July 24, 2024
Homeसंस्कृतिहरेला त्यौहार को बोने की विधि और इसमें प्रयोग किये जाने वाले...

हरेला त्यौहार को बोने की विधि और इसमें प्रयोग किये जाने वाले अनाज।

हरेला पर्व धीरे -धीरे उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र का लोकपर्व न होकर पुरे प्रदेश और देश के कई हिस्सों में धूम धाम से मनाया जाने वाला त्यौहार बन गया है। जैसा की हम सबको पता है कि हरेला त्यौहार उत्तराखंड का प्रकृति को समर्पित एक अनन्य लोक पर्व है। इसमें सात या पांच प्रकार के अनाज को दस या ग्यारह दिन पहले मंदिर के पास बंद कमरे में बोते हैं। फिर दस दिन बाद हरेला त्यौहार मनाया जाता है।

हरेला त्यौहार की पूर्व संध्या पर डिकारे बनाये जाते हैं। पारम्परिक मिष्ठान छऊवे बनाये जाते हैं। और हरेले की पूजा करके उसको बांध दिया जाता है। आज जानते हैं 2024 में हरेला कब बोया जायेगा ? और पारम्परिक रूप से इसे कैसे बोते हैं ? और इसमें कौन-कौन सा अनाज प्रयुक्त किया जाता है ?

2024 में हरेला त्यौहार कब बोया जायेगा –

वर्ष 2024 में हरेला त्यौहार 16 जुलाई में मनाया जायेगा। इस हिसाब से हरेला 06 जुलाई और 07 जुलाई को बोया जायेगा। हरेला उत्तराखंड में कुछ क्षेत्रों में ग्यारह दिन का मनाया जाता है ,और कुछ क्षेत्रों में दस दिन का हरेला मनाया जाता है। अब जो लोग ग्यारह दिन का त्यौहार मानते हैं तो वे 06 जुलाई को हरेला बोते हैं। और जो 10 दिन का त्यौहार मानते हैं तो वे लोग 07 जुलाई 2024 को हरेला बोयेंगे।

हरेला त्यौहार को बोने की विधि और इसमें प्रयोग किये जाने वाले अनाज।

Best Taxi Services in haldwani

 

पारम्परिक रूप से हरेला बोने की विधि –

हरेला त्यौहार में उत्तराखंड में पारम्परिक रूप से हरेला बोने के लिए लगभग 12 दिन के आस पास पहले किसी शुद्ध जगह की उपजाऊ मिटटी को सुखाकर रख लेते हैं।अपने क्षेत्र की मान्यता के हिसाब से 10 दिन में या 11 दिन में हरेले की मिटटी छान कर दो बड़े पत्तो में रख लेते हैं। या फिर एक लकड़ी की चौकी पर बराबर फैला लेते हैं। यहाँ पर एक बात ध्यान देना चाहिए कि थोड़ी मिटटी बचाकर रखें। सारी मिटटी एकसाथ न फैलाएं। अनाज मिटटी की सतह पर फ़ैलाने के बाद उसमे अनाज डालें और ऊपर से बची हुई मिटटी से बीजों को ढक दें। और ऊपर से मिट्टी के हिसाब से पानी छिड़क दें।

हरेला त्यौहार में प्रयुक्त अनाज –

हरेला त्यौहार में पारम्परिक रूप से खरीफ की फसलों के अनाजों और दलहनों का प्रयोग किया जाता है। इसमें उड़द ,मक्का , तिल ,गहत ,धान ,भट्ट आदि का प्रयोग करते हैं। लोग इन अनाज के न होने के कारण या अपने क्षेत्र की मान्यता के अनुसार अलग अलग अनाजों का प्रयोग किया जाता है। जिसमे जौं ,सरसों इत्यादि हैं। कहीं कहीं कहते हैं हरेला में काळा अनाज प्रयोग किया जाता है। और कई क्षेत्रों में इसका प्रयोग किया जाता है।

हरेला त्यौहार को बोने की विधि और इसमें प्रयोग किये जाने वाले अनाज।

 

 

हरेला कौन बो सकता है –

एक चीज अक्सर पूछी जाती है या सबके मन में जिज्ञासा होती है कि परिवार में हरेला बोने का अधिकार किसको है ? एक सामान्य जानकारी के अनुसार परिवार में मातृशक्ति हरेला बोने के लिए अर्ह माना जाता है। परिवार की कुवारी कन्याओं की जिम्मेदारी होती है कि वे रोज इसमें पानी डाले। परिवार या बिरादरी में जातक शौच या मृतक शौच होने के कारण हरेला बोने की जिम्मेदारी परिवार की कुवारी कन्याओं की होती है। परिवार में कुवारी कन्या न होने के कारण कुल पुरोहित की जिम्मेदारी होती है हरेला बोने और उसकी देखभाल करने की।

हरेला कौन बो सकता है ये किताबी और सार्वभौमिक नियम है। लेखकों ने समाज में अपने शोध और अध्यन के आधार पर ये बात बताई है। लेकिन पहाड़ों में हरेला बोने और देखभाल करने की जिम्मेदारी हर उस परिवार के सदस्य की होती है जो मन वचन और कर्म से शुद्ध है और समझदार भी है।

इन्हे भी पढ़े _

हरेला पर्व 2024 और हरेला पर्व की शुभकामनाएं।

डिकर पूजा से पूर्ण होता है उत्तराखंड का हरेला त्यौहार !

छउवा या चीला, शुभ कार्यों व त्योहारों पर बनने वाला पहाड़ी मीठा भोजन

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments