Thursday, February 22, 2024
Homeसंस्कृतिडिकर पूजा से पूर्ण होता है उत्तराखंड का हरेला त्यौहार !

डिकर पूजा से पूर्ण होता है उत्तराखंड का हरेला त्यौहार !

 हरेला पर डिकर पूजा –

डिकर का मतलब है पूजा के लिए मूर्ति या वनस्पतियों से बनाई गई दैवी मूर्तियां । इनका निर्माण मुख्यतः कुमाऊं मंडल में हरेला त्यौहार, और सातू -आठु , जन्माष्टमी पर किया जाता है। कुमाऊं के पुरोहित वर्गीय समाज में हरेले को शिव-पार्वती के विवाह का दिन माना जाता है। अतः इस दिन शिव परिवार के सभी सदस्यों के मिट्टी के डिकरे बनाकर उन्हें हरियाले के पूड़ों के बीच में स्थापितकरके उनका विधिवत पूजन किया जाता है। इसी प्रकारश्री कृष्ण जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण, गायें, गोवर्धन पर्वत आदि के डिकरे बनाकर पूजे जाते हैं। 

डिकर पूजा

कैसे बनाये जाते हैं हरेले के लिए डिकारे :-

हरेले के डिकारे बनाने के लिए ,चिकनी मिटटी, रुई और पानी के मिश्रण को कूट कूट कर उसे लचीला बना लिया जाता है । ततपश्चात बाद उसे मूर्ति के सांचे में रखकर ,भगवान शिव ,पार्वती गणेश और उनके परिवार की मूर्तियां बनाई जाती है। मूर्ति को छाया में सुखाया जाता है। जिन्हे चावल आदि के लेप लगाकर ,लेप सूखने के बाद इनके हाथ और पैर बनाये जाते हैं।  मूर्ति के शरीर पर रंग भरकर ,बारीक़ सींक से आँख और कान बनाये जाते हैं। बाद में वस्त्र आभूषणों के रंग भर दिया जाता है। इस तरह हरेला की पूर्व सांध्य पूजन के लिए इन मूर्तियों को डीकारे कहा जाता है। हरेले की पूर्व संध्या को , हरेला के बीच में रखकर इनकी भी पूजा की जाती है। इसे डिकार पूजा,या डिकरे  की पूजा भी कहते हैं।

सातू – आठू के लिए डिकर – 

ऐसे ही भाद्रपद मास में अमुक्ताभरण सप्तमी एवं विरुड़ाष्टमी (सातूं-आठू) के अवसर पर कुमाऊं के पूर्वोत्तरी क्षेत्र, सोर-पिथौरागढ़ में महिलाएं व्रती रहकर साँवाधान्य अथवा मकई की हरी बालड़ियों और पत्तों को आपस में गूंथकर तथा सफेद वस्त्र से उनकीमुखाकृति आदि का निर्माण कर गौरा (पार्वती) तथा महेश्वर (शिव) के डिकरे बनाकर तथा शिव के dikre के साथ डमरू, त्रिशूल, चन्द्रमा आदि के प्रतीकों तथा वस्त्राभूषणों से सुसज्जित गौरा के की पूजा अर्चना करती हैं।

Best Taxi Services in haldwani

इन्हें भी पढ़े – 

हरेला पर्व के बारे में सम्पूर्ण जानकारी और हरेला की शुभकामनाएं फ़ोटो संदेश !

उत्तराखंड के लोक पर्व हरेला पर निबंध हिंदी में , हरेला पर भाषण 

जी राया जागि राया , हरेला गीत और उसका हिंदी अर्थ ।

हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

फ़ोटो- साभार सोशल मीडिया ।

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments