Friday, April 12, 2024
Homeसंस्कृतिलोकगीतपुराने कुमाऊनी गाने के लिरिक्स | Old Kumaoni Song Lyrics

पुराने कुमाऊनी गाने के लिरिक्स | Old Kumaoni Song Lyrics

Kumaoni Song Lyrics in Hindi

वर्तमान में डीजे का दौर चल रहा है। और यह डीजे का दौर बालीवुड के संगीत से लोक संगीत में उत्तर आया है। इलेक्ट्रनिक वाध्य यंत्र, शोर- शराबा युक्त डीजे, धूम-धड़ाका संगीत से उत्तराखंड का लोक संगीत जगत भी अछूता नहीं है। आजकल उत्तराखंड के गढ़वाली गीतों और  कुमाऊनी गीतों में कृत्रिम वाद्य यंत्रों और डीजे का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। नई पीढ़ी के डीजे युक्त गीतों की पसन्द के चलते, पुराने कुमाऊनी गाने (old Kumauni song) और पुराने गढ़वाली गीत कहीं विलुप्त हो गए हैं।

पुराने पहाड़ी गीत संस्कृति रीती रिवाजों को ध्यान में रख कर बनाए जाते थे। और पुराने कुमाऊनी गाने या पुराने गढ़वाली गीत तत्कालीन समाज की स्थिति को केन्द्र में रख कर बनाए जाते थे। जिनमे नृत्य के साथ जीवन व समाज केसभी पहलुओं का ध्यान रखा जाता था । जबकि नए पहाड़ी गीत अधिकतर नृत्य को ध्यान में रखकर बनाए जा रहे हैं। हालांकी कई नए कुमाऊनी गाने या नए गढ़वाली गाने, समाज और परम्पराओं पर भी केन्द्रित हैं। आज अपने इस संकलन में  कुछ पुराने कुमाऊनी गाने के बोल संकलित कर रहे हैं। यह संकलन हमने पुरानी गीतमाला किताबों और कई आदरणीय बुजर्गों के सहयोग से बनाया है। उम्मीद है पुराने कुमाऊनी गाने का यह संकलन कुमाऊनी लोक संगीत प्रेमीयों को पसंद आएगा और लाभदायक होगा।

जय जय हो बदरी नाथ!

जै जै हो बदरी नाथ….
जै काशी केदार !जै जै हिवाला
देवतों की अवतारी भूमि
सन्तों की तपो भूमि
जै काशी केदारा । जै जै हिंवाला
जाग नाथ बाग नाथ ।
जै हरी हरद्वारा..
नील कंठ जै त्रिशूल
जै तेरी गोमुखा…
शिवं ज्यू की तपो भूमि …!
देवतों को जनमा भूमि
म्यर कुमू गढवाला । जै जै हिंवाला
नंन्दा देवी: पंचेश्वर।
जै बूढ़ो केदारा..!
जै मेरी जनमा भूमि
जं तेरी चौखम्बा
पार्वती की जनमा भूमि
नंदा ज्यू की जनमा भूमि
शिव ज्यू हिवांला ..!
डाई बोंटियों में राम श्याम।
ढूंगों में भगवान छँ ।
कण कण रहस्य यां छौ
देबी देबों का थान छ ।
बीरों की यो तपो भूमि।
पैगो की जन्मा भूमि।
ज्ञान की भन्डार
जै जै  हिवांला …!
जै जै हो बदरीनाथ

गीत के बारे में :- उत्तराखंड की प्रशंसा करता यह गीत उत्तराखंड के प्रसिद्ध लोकगायक स्वर्गीय गोपालबाबू गोस्वामी जी ने बनाया है। लोक गायक स्वर्गीय गोपालबाबू गोस्वामी जी का जीवन परिचय देखने के लिए यहां क्लिक करें …

तेरी खुटी मेरी सलाम

Best Taxi Services in haldwani

तेरी खुटी मेरी सलाम,
मैं मैता जाण दे भागी ।
तेर खुटी मेरी सलाम,
तू मैता नि जा भागी ।
-(जोड़) तेरि खुटी मेरी सलाम, तू मैता नि जा भागि ।
चौमासी ढुंग चिफलो, तेर खुटो रड़ी जालो,
मेरो हियो झुरि जालो, तू मैता नी जा भागि
चौमासी ढुंग चिफलो-तू मैता नि जा भागि ।
तेर खुटी मेरी सलाम तू मैता नि जा भागि ।
( जोड़) तेर खुटी मेरी सलाम मैं मैता जाण दे भागि
मैं ईजू की नराई मैं मैता जाण दे भागि ।
मैं बाबू की नराई मैं मैता जाण दे भागि ।
मै मैता जाण दे भागि ।
मै इजू की नराई मै मैता जाण दे भागि ।
मैं बाबू की नराई मै मैता जाण दे भागि ।।
तेर खुटी मेरी सलाम मै मैता जाण दे भागि ।
तेर खुटी मेरी सलाम मैं मैता जाण दे भागि ।।

म्यर शोभनी होस्यारा।

अहा सब च्यालों है बेरा म्यर शोभनी होस्यारा….
म्यर शोभनी होस्यारा ..!

जोड़ – ऐ सब च्यालों है बेरा म्यर शोभनी होस्यारा…
सब ल्यूंनि नगदा भागि म्यर शोभनी उधारा..!
म्यर शोभनी उधारा …
अहा सब च्यालों है बेरा मेर शोभनी होस्यारा …
सब ल्यूंनि नगदा म्यर शोभनो उधारा…
म्यर शोभनो होस्यारा…..
अहा सब च्यालों

जोड़ – ऐ सब च्यालों है बेर म्यर शोभनी हस्यारा
सब खानी हो रोट साग, म्यर शोभनी शिकारा…!
अहा सब खानी रोट सागा, म्यर शोभनी शिकारा..!
म्यर शोभनी शिकारा …,
अहा सब च्यालों…

जोड़- ऐ सब च्यालों है बेर मेर शोभनी होस्यारा…
सब खानी दाल भाता, म्यर शोभनि झुंगरा..
अहा सब खानी दाव भात म्यर शोभनी …
म्यर शोभनी झुंगरा…
अहा सब च्यालों ……..

जोड़- ऐ सब च्यालों है बेरा म्यर शोधनी होस्यारा…!
सब चरुनी गोरू भैंसा, म्यर शोभनी बाकारा
अह सब चरूनी गोरू, म्यर शोभनी बाकारा…!
म्यर शोभनी बाकारा…
अहा सब च्यालों है बेर म्यर शोभनी होस्यारा
म्यर शोभनी होस्यारा…

सुपारि खई खई सुण माया

हई हई हई सुपारि खई सुण माया,
क्या रामरो घाम लागो छ ।

जोड़- नान माणी मडुवा भरो ग्यूं भरा ठुल माणी ।
ढिन मिना घुरी नं रौली मोत्यूं कसी दाणी  ।
हई हई हई…

जोड़-ह्यन मासा ठंडी हवा पंछी पड़ा घोल
झिट घड़ी लुकाइ लिन्ही तो गुलाबी बोल
हई हई हई…

जोड़- बांसुई का बन भागि बासुई का बन
तू मेरि राधिका होली में तेरो मोहन
हई हई हई सुपारि खई सुण माया..

जोड़- दो तारि को तार सुवा दो तारि को तारा
बची रैया खुशी रैया धरती की चारा
हई हई…

माठु माठु हिटैली मेरी बाना (Old kumauni song lyrics):

पहाड़ का ऊँचा नीचा डाना।
माठु माठु हिटैलो मेरी बाना ।
ओ मेरी बाना हाय वे तेरो शाना ।
माठु माठु..

मडुवा को माणो सुवा मडुवा को माणो…
हँसी ल्हिये नाचि ल्हिये द्वी दिन बचणो…
चार दिन रूंछो वे जोबना,
माटु माठु……

सला रुख घूम सुवा सला रुख घूम …!
रोज पै नि रुनि सुवा जवानी की धूम…!!
मैं खंद्योलो तेरी तो हँसणा,
माठु माठु……

बाकर कि खुटी सुवा बाकरे कि खुटी
आपुणो जोबन देखि, आफी रैछ टूटी
घैल करनी तेरि आँखि का बाणा…
माठु माठु..

निमुवे की दाणि सुया निमुवे की दाणी..
रिठे कसो दांणी,
तौ आँखि मैं खंजालि
माया पड़ी गेछ मेर मना
माठु माठु……

सरग तारा, स्वर्ग तारा कुमाऊनी पुराने गीत

सरग तारा जुन्याली राता…
को सुण लो यो मेरि बाता…!
सरग तारा……

पाणिक मसीक सुवा पाणिक मसीक !
तू न्है गेये परदेस मैं रूलो कसीक!!
सरग तारा…

विरहा की रात भायी बिरहा की रात!
आँखन बे आंसू झड़ी लागी बरसात!!
सरग तारा..

तेल त निमड़ि गोछ बुझर्ण छ बाती !
तेरि माया ले मेड़ि दियो सरपै की भांति !
सरग तारा….

अस्याली को रेट सुवा अस्याली को रेट !
आज का जइयां बटी कब होली भेटा !!
सरग तारा……!

यो बाटो का जान्या, कुमाऊनी पुराने गाने

यो बाटो कां जान्यां होला, सुरा सुरा देवी का मंदिर…
चमकनी गिलास सुवा रमकनी चाहा छ !
तेरी मेरी पिरीत कों दुनिये डाहा छ!!
यो बाटो कां…

जाइ फुलि चमेलि फुली देंणा फुली खेता !
तेरो बाटों चानें चानें उमर काटो मैता !!
यो बाटो कां…

गाड़ा का गड्यारा मारा दैत्या पिसाचं लै !
मैं यो देख दुबलि भयूं तेरा निसासे लै !!
यो बाटों कां…

तेरा गावा मूंगे की माला मेरा गावा जन्जीरा !
तेरी मेरी भेंट होली देवी का मंदीरा !!
यो बाटों कां…..

अस्यारी को रेट सुवा अस्यारी को रेट !
यो दिन यो मास आब कब होली भेंट!!
यो बाट कां…

ओ परूवा बौज्यूँ कुमाऊनी गीत (Old Kumauni song lyrics)

ओ परवा बौज्यू, आँगड़ि क्ये ल्याछा यस ।
नै टुपुक बूटा,  घाघरि क्ये ल्याछा यस ।
नै टुपुक बूटा,  घाघरि क्ये ल्याछा यस ।।
ओ परूली ईजा, तू कस माँगि छै कस ।
धन तेरो मिजाता, हाई कस मांग छै कस ।।
ओ परवा बौज्यू, धमेलि क्ये ल्याछा यस ।
नै झुमुक फूना, धमेलि क्ये ल्याछा यस ।।
ओ परूली ईजा, तू कस माँगि छै कस ।
धन तेरो फैशना, हाई कस करूँ मैं कस ।।
ओ परवा बौज्यू, बिंदुलि क्ये ल्याछा यस ।
चम चमै नी हुनी, बिंदुलि क्ये ल्याछा यस ।।
ओ परूली ईजा, तू कस माँगि छै कस ।
तेरी मनै नी ऊनी, हाई कस करूँ मैं कस ।।
ओ परूली ईजा, तू कस माँगि छै कस ।
ओ परवा बौज्यू, चप्पल क्ये ल्याछा यस ।
फट-फटै नी हूनी, चप्पल क्ये ल्याछा यस ।।
ओ परूली ईजा, तू कस माँगि छै कस ।
तेरी मनै नी ऊनी, हाई कस करूँ मैं कस ।
मेरि खोरि फोड़नि, हाई कस करूँ मैं कस।
तेरी मनै नी ऊनी, हाई कस करूँ मैं कस।

गीत के बारे में :- ओ परूवा बाज्यू शेर सिंह अनपढ़ शेरदा का प्रसिद्ध पुराना कुमाऊनी गीत है। 80 – 90 के दशक में यह चुटीला गीत जनता ने खूब पसंद किया। शेरदा अनपढ़ के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें।

झन दिया बौज्यूँ छाना बिलोरी (jhan diya bojyu song lyrics)

झन दिया बौज्यू छाना बिलौरी,
लागला बिलौरी का घाम…!
हाथ की दाथुली हाथ रै जाली,
लागला बिलौरी का घाम !!
चूलै की रोटी चूलै में रौली,
लागला बिलौरी का घाम….!!
झन दिया बौज्यू छाना बिलौरी,
लागला बिलौरी का घाम …!!
हाथै कि कुटली हाथै में रौली,
लागला बिलौरी का घाम ..!!
झन दिया बौज्यू छाना बिलौरी,
लागला बिलौरी का घाम ..!!
फूल जैसी म्यर मुखड़ी,
चेली मैं तुमरी भली-भली।
झन दिया बौज्यू छाना बिलौरी,
लागला बिलौरी का घाम..!!
बिलोरी का धारा रौतेला रौनी,
लागनी बिलोरी का घामा ..!!
झन दिया बोज्यू छाना बिलौरी,
लागला बिलौरी का घाम ..!!

गीत के बारे में :-यह गीत पुराने कुमाऊनी गीतों का सरताज रहा है । सत्तर – अस्सी के दशक में लोकगायक मोहन सिंह रीठागड़ी द्वारा गाया यह प्रसिद्ध गीत उस समय इतना प्रसिद्ध हुवा कि, लोगों ने इस क्षेत्र में अपनी लड़की का रिश्ता देना बंद कर दिया। उसके बाद स्वर्गीय गोपाल बाबू गोस्वामी जी, इस क्षेत्र के लिए एक गीत बनाया ।जिसमे इस क्षेत्र की प्रशंसा की गई। 26 जनवरी 2022 को कुमाऊं रेजिमेंट ने इसकी लोकधुन को कर्तव्यपथ के परेड में प्रदर्शित किया।

इन्हे भी पढ़े: छैला वे मेरी छबीली गीत लिरिक्स !

प्रिय पाठकों अपने इस संकलन में हमने कुछ विलुप्ति की कगार पर खड़े पुराने कुमाऊनी गाने (old kumaoni song lyrics) सांकलित किये हैं। उम्मीद है ये आपको पसंद आये होंगे। भविष्य में हम पुराने कुमाऊनी गीत वाले इस संकलन को और बढ़ाने की कोशिश करेंगे।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments