चार धाम कपाट
राज्य समाचार विशेष

दशहरे के शुभ अवसर पर , चार धाम कपाट बंद होने की तिथि घोषित हुई।

2022  में चार धाम कपाट खुलते ही चारधाम यात्रा पुरे हर्षोउल्लास और उत्साह के साथ शुरू हो गई थी। कोरोना महामारी के बाद ,दो साल बाद  इस साल 2022  में चार धाम यात्रा निर्विघ्न रूप से शुरू  हुई। इस साल  लोगों में चार धाम यात्रा का ऐसा उत्साह जगा कि केदारनाथ धाम के कपाट खुलते ही बीस हजार से अधिक यात्री दर्शन के लिए पहुंच गए। सरकार के इंतजाम भी कम पड़ गए थे। बाद में भीड़ देखते हुए सरकार ने प्रतिदिन दर्शन करने वाले यात्रियों की संख्या नियंत्रित की।

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा आजकल अपने चरमोत्कर्ष पर है। अब नियत विधि विधान के अनुसार दशहरे के दिन चारों धामों के बंद होने की तिथि घोषित की जाती है। इसी आधार पर 2022 में चार धाम कपाट बंद होने की तिथि भी इस दशहरे को  घोषित की जा चुकी है।  इस घोषणा के अनुसार बदरीनाथ धाम के कपाट 19 नवम्बर को दिन में 3 बजकर 35 मिनट के शुभ मुहूर्त पर बंद होंगे। गंगोत्री धाम के कपाट 26 अक्टूबर 12 बजकर 1 मिनट पर बंद होंगे। यमुनोत्री धाम के पुरोहित महासभा के अध्यक्ष जी के अनुसार , यमुनोत्री धाम के कपाट 27 अक्टूबर भैया दूज पर 12 :09 मिनट पर सर्वसिद्धि योग और अभिजीत मुहूर्त पर बंद किये जायेंगे।

भगवान् भोलेनाथ के धाम केदारनाथ के कपाट भी 27 अक्टूबर को भैयादूज पर बंद किये जायेंगे। बद्रीनाथ धाम के बारे में प्राप्त सुचना के अनुसार इस साल 2022 में बद्रीनाथ धाम के कपाट 19  नवंबर दोपहर 3 :35 बजे बंद किये जायेंगे।

इसे भी पढ़े –

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद जी का व्यक्तित्व देश, समाज तथा विश्व कल्याण के लिए अर्पित रहा- प्रो. वरखेड़ी

Lumpy Virus : लम्पी वायरस की रोकथाम के लिए उत्तराखंड सरकार ने जारी की है ये गाइडलाइन्स

येलो थ्रोटेड मार्टिन ( yellow throated marten ) जिसे हम पहाड़ में चुथरोल या चुथरोउ कहते हैं।

” ऊचेण ” एक ऐसी भेंट जो कामना पूरी होने के लिए देवताओं के निमित्त रखी जाती है।

हमारे व्हाट्सप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।