Saturday, March 2, 2024
Homeसंस्कृतिबल्दिया एकास के रूप में मनाई जाती है कुमाऊं में हरिबोधनी एकादशी...

बल्दिया एकास के रूप में मनाई जाती है कुमाऊं में हरिबोधनी एकादशी !

उत्तराखंड का समाज मुख्यतः कृषक व् पशुपालक ही रहा है। आदिकाल से ही उत्तराखंड के निवासी मुख्यतः प्रकृति प्रेमी रहे हैं। पहाड़ की सीढ़ीदार खेतों और जल जंगल के बाद पशु उत्तराखंडियों की अमूल्य संपत्ति रहे हैं। पहले से ही दुधारू गाय /भैंस के साथ बैलों की जोड़ी का पहाड़ियों के जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। वर्तमानं में पहाड़वासियों ने पशुपालन थोड़ा कम कर दिया है। लेकिन अधिकतर लोग अभी भी अपनी पारम्परिक जीवन शैली अपनाये हुए हैं। पशुओं के लिए अगाध स्नेह होने के कारण पहाड़वासियों ने अपने और प्रकृति के साथ -साथ पशुओं के लिए भी कई लोकोत्सव बनाये हैं। जिनमे खतड़ुवा ,ईगास ,बल्दिया एकास आदि लोकोत्सव प्रमुख हैं।

हरिबोधिनी एकादशी या कार्तिक शुक्ल एकादशी के दिन जहाँ उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में ईगास पर्व मानते हैं ,जिसमे मूलतः दिन में पशुओं की सेवा की जाती है। रात को पारम्परिक दीवाली के रूप में भैल्लो खेलते हैं। इसी प्रकार हरिबोधनी एकादशी के उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में बल्दिया एकास नामक लोकोत्सव के रूप में मनाई जाती है। इस दिन बैलों के हल जोतने की छुट्टी रहती है। इस दिन बैलों को अच्छा भोजन और अच्छी ताज़ी घास दी जाती है। उनके सींगों में तेल से मालिश की जाती है। उनके सींगो को फूल मालाओं से सजाया जाता है। इस दिन सभी गाय ,बैलों को जौ के पिसे हुए पेड़े खिलाये जाते है। इस दिन उत्तराखंड के जौनपुर क्षेत्र में भी अपने पशुओं की सेवा की जाती है ,उन्हें दही चावल खिलाये जाते हैं।

बल्दिया एकास
फोटो साभार -फेसबुक

अतः कह सकते हैं कि हरिबोधनी एकादशी के दिन सम्पूर्ण उत्तराखंड में पशुओं को समर्पित लोकोत्सव मनाये जाते हैं। जिनके नियम व् परम्पराएं स्थानीय स्तर पर अलग – अलग होती हैं।

इन्हे भी पढ़े _

Best Taxi Services in haldwani

गोवर्धन पूजा से अलग होती है कुमाऊं की गोधन पूजा या गाखिले त्यार !

बौखनाग देवता नामक लोक देवता के प्रकोप का परिणाम है उत्तरकाशी टनल हादसा ?

हमारे व्हाट्सप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

 

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments