व्यक्तित्व

उत्तराखंड मांगल गर्ल , “नंदा सती ” || उत्तराखंड माँगल गीत || Nanda Sati , Mangal girl of Uttarakhand || Uttarakhand mangal geet

आज उत्तराखंड के कई युवा अलग अलग क्षेत्रों में उत्तराखंड की संस्कृति के संरक्षण और उसके प्रचार में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहें हैं। उन्ही में से एक नाम है नंदा  सती  का जिन्हे अब उत्तराखंड के लोग मांगल गर्ल के नाम से जानने लगे हैं।

उत्तराखंड माँगल गीत | Uttarakhand mangal geet

जैसा कि हम सब लोगों को पता है , कि मांगल गीत हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग हैं। जैसा कि नाम से पता चल रहा है  उत्तराखंड  में मंगल अवसर पर गाये जाने वाले गीतों को मांगल गीत कहते हैं। शादी ,विवाह ,नामकरण , जनेऊ आदि शुभ कार्यों पर उत्तराखंड की संस्कृति में शुभ गीत गए जाते हैं।  उत्तराखंड के इन मांगल गीतों को गढ़वाली में माँगल और कुमाऊनी में शकुन आखर या फाग  कहते हैं। मांगल गीतों को महिलाएं पारम्परिक वेश भूषा पहन कर ,समूह में एक सुर में गाती हैं।

विलुप्त हो रहे मांगल गीतों को दुबारा पहचान दिला रही है मांगल गर्ल :-

वर्तमान में उत्तराखंड के मांगल गीत अब विलुप्ति की कगार पर हैं। लोग अपनी लोक परम्परा को भूलते जा रहे है। इन्ही विलुप्त होती उत्तराखंड की परम्परा को दुबारा जीवंत करने की कोशिश कर रही उत्तराखंड की मँगलेर बेटी नंदा सती। उत्तराखंड चमोली। जिले के नारायणबगड़ ब्लॉक के नारायणबगड़  गावं की रहने वाली नंदा सती को दादी से विरासत में मिला मांगल गीत गुनगुनाने का हुनर। और  नंदा  ने मात्र 20 वर्ष की आयु में ही मांगल गीत गाना शुरू कर दिया था। नंदा सती की पढाई   तक विज्ञानं वर्ग से नारायणबगड़ में ही हुई। वर्तमान में नंदा सती हेमवती नंदन विश्वविद्यालय श्रीनगर में पढाई कर रहीं हैं। और अपनी  उत्तराखंड मांगल गीतों  मंगल यात्रा को  भी चलायमान किये है।

मांगल गर्ल

इसे भी देखे :- पांडवाज ने पलायन के दर्द को बखुबी कैमरे में उतारा है,यकुलांस के जरिये।

मांगल गर्ल नंदा सती बहुमुखी प्रतिभा की धनी है। नंदा एक होनहार छात्रा होने के साथ साथ एक अच्छी खिलाडी भी है। NSS विंग की होनहार भी है। इसके साथ साथ संगीत की अच्छी जानकार भी है नंदा।  हारमोनियम वाद्य का भी नंदा को अच्छा ज्ञान है।  जो उनके यूट्यूब वीडियोज से पता चलता है। कोरोना काल जहा कई लोगो के लिए दुखद स्वप्न की तरह आया तो कई लोगों ने आपदा में अवसर तलाश कर अपने हुनर को और चमकाया।  उन्ही में से एक नाम है नंदा सती का ,जिन्होंने  कोरोना।  काल में घर में रहकर  अपनी परम्परा को डिजिटल माध्यम , फेसबुक ,यूट्यूब आदि  से देश विदेशों तक पहुंचाया ही नहीं ,वरन अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया।

मांगल गर्ल् नंदा सती के इस अनुकरणीय कार्य से गदगद लोगो ने उन्हें , मांगल गर्ल ,का नाम दिया।  नंदा सती के इस सफर में उनका पूरा साथ दिया है ,उनकी मित्र किरण नेगी ने। मांगल गीतों पर दोनों को जुगलबंदी देखते बनती है। तबले पर इनका साथ देते हैं श्रीनगर के योगेश ( योगी जी ) प्रतिभा संपन्न नंदा सती और किरण नेगी ने ,अपनी संस्कृति अपने उत्तराखंड के मांगल गीतों को समृद्ध करने और संरक्षण की जो मुहीम शुरू की है ,वह अनुकरणीय है। अपनी परम्परा और अपनी संस्कृति से बिमुख हो रहे युवाओं के लिए ये दोनों एक प्रेणा श्रोत हैं।

यहाँ भी पढ़े :- प्रवासी को अपने पहाड़ की याद दिलाता है ,कंचन जदली का लाती आर्ट

उत्तराखंड मांगल गीत का वीडियो यहाँ देखें :-

संदर्भ :- 

इस जानकारी रूपक लेख का संदर्भ हमने , नंदा सती  के सोशल मिडिया हैंडल्स और  यूट्यूब चैनल , तथा सोशल  मिडिया पर उपलब्ध  अशोक जोशी जी के लेख से लिया है। इस लेख में नंदा  सती जी के मंगल गीत का  वीडियो का लिंक द्वार दिखा रहे हैं।  सभी लोगों से निवेदन है ,उत्तराखंड संस्कृति के लिए अतुलनीय योगदान देने वाली नंदा सती जी से यूट्यूब पर जुड़े और उत्तराखंडी मांगल गीतों का आनंद लें। इस लेख में प्रयुक्त फोटोज नंदा सती जी के सोशल मीडिया हैंडल्स से लिये गए हैं।

नंदा सती के यूटयूब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।