Thursday, February 22, 2024
Homeकुछ खासआखिर क्यों कहते हैं माल्टा फल को पहाड़ी फलों का राजा ?

आखिर क्यों कहते हैं माल्टा फल को पहाड़ी फलों का राजा ?

माल्टा || Malta Fruit Uttarakhand –

नींबू प्रजाती का यह खास फल स्वाद में हल्का खट्टा और हल्का मीठा होता है।माल्टा एक पहाड़ी क्षेत्रों में उगने वाला फल है। माल्टा फल , Malta fruit का वानस्पतिक
नाम citrus Sinesis है। यह फल नींबू के कुल Rutaceae से सम्बन्ध रखता है।  इसका रंग सन्तरे जैसा होता है। इस फल को पहाड़ी सन्तरा या पहाड़ी फलों
का राजा भी कहते हैं । सबसे पहले माल्टा का उत्पादन चीन में किया गया था। बाद मे माल्टा ( malta fruit ) का हिमाचल, नेपाल, और उत्तराखंड में उत्पादन शुरू किया गया । माल्टा का पेड़ 6 से 12मीटर तक ऊंचा होता है। इसके पेड़ 3 साल के अन्दर फल देना शुरू कर देते हैं। और लगभग 30 साल तक फल देते हैं। उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों के लोग इस फल को बहुत पसन्द करते हैं।मसाला नमक (पहाड़ी नून), गुड़, दही या छाछ के मख्खन के साथ माल्टा के छोटे छोटे टुकड़े कर मिला लिया जाता है। उसके बाद उसमें  धनिया मिला या धनिया पत्ती से सजाकर पहाड़ी लोग माल्टा की चटनी बड़े चाव से खाते हैं। माल्टा एक औषधीय फल है।

माल्य फल में पाए जाने वाले पोषक तत्व |Nutrition in Malta –

1- कार्बोहाइड्रेट,
2- वसा
3- फाईबर
4- आयरन
5 फास्फोरस,
6-मैग्नीशियम
7- पोरेशियम
8 प्रोटीन
9- विटामीन सी
10- फ्लेवोनॉयड्स

माल्टा फल के उपयोग –

पहाड़ो में माल्टा फल (Malta fruit) नवम्बर से दिसम्बर तक पक कर तैयार हो जाता है। माल्टा एक बहुऊपयोगी फल है। पहाड़ी जनजीवन में माल्टा के निम्न प्रकार से प्रयोग किया जाता है-

  • पहाड़ो में इस फल की चाट बना कर खाई जाती है।
  • इसके छिलके ,पत्ते ,तेल ,बीज  सभी भागों का प्रयोग आयुर्वेदिक दवाई बनाने में किया जाता है।
  • Malta Fruit के पत्तों का काढ़ा बना कर ,उल्टी थकान आदि समस्याओं के लिए औषधि के रूप में किया जाता है।
  • Malta Fruit छिलकों का चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है।
Malta fruit
Malta fruit

माल्टा खाने के फायदे || Benefits of Malta Fruit –

Best Taxi Services in haldwani

शोध के अनुसार  माल्टा खाने के निम्न फायदे बताये गए हैं –

  • माल्टा खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
  •  पेट की पाचन तंत्र की समस्याओं में लाभदायक है माल्टा।
  •  माल्टा खाने से ब्लडप्रेशर कंट्रोल  (blood pressure control ) करने में मदद मिलती है।
  •   वजन घटाने ( Wight lose ) में सहायक है यह फल।
  • इसकी पत्तिया और बीज औषधीय रूप में लाभ देती है। माल्टा में भरपूर
  •  फाइबर शरीर में कोलोस्ट्रोल कम करने में मदद करता है।
  •  माल्टा का जूस के गुर्दे की पथरी ( Kidney stone ) में लाभ मिलता है।
  • माल्टा के छिलके के पॉवडर को फेसपैक के  रूप में प्रयोग करने से त्वचा में निखार आता है।
  • माल्टा का उपयोग डाइबिटीज के मरीजों के लिए भी लाभदायक हो सकता है।
  • कैंसर से बचाव में लाभदायक हो सकता है माल्टा फल ( Malta fruit )
  • खून की कमी पूरी करने और खून साफ करने में फायदेमंद है यह फल।
  • भूख बढ़ाने और कमजोरी दूर करने में सहायक है माल्टा।
  • बालों के लिए भी लाभदायक बताया जाता है ,माल्टा फल।

माल्टा फल के नुकसान || Disadvantages of Malta fruit  –

इसमें कोई शक नहीं है कि माल्टा फल , Malta fruit एक बेमिसाल फल है। यह अनेक गुणों से भरपूर है। इसीलिए माल्टा को पहाड़ी फलों का राजा कहते हैं। लेकिन एक सीमा से अधिक किसी  भी चीज का उपयोग नुकसानदायक हो सकता है।  इसलिए माल्टा का उपयोग एक दिन अधिक न करें। अपने शरीर की प्रकृति के अनुसार इसका उपयोग करें। Malta fruit का औषधीय प्रयोग करने से पहले एक्सपर्ट या डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

अस्वीकरण –

इस पोस्ट में माल्टा फल के फायदे और नुकसान व् माल्टा के बारे में जानकारी सामान्य ज्ञानवर्धन के लिए है। इसे दवाई के रूप में प्रयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। देवभूमी दर्शन इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता।

इसे भी पढ़े –

किलमोड़ा पहाड़ों पर पाया जाने वाला औषधीय फल।

तिमला फल ,खाने के लाभ और पोषक तत्व

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments