किलमोड़ा

किलमोड़ा पहाड़ों पर पाया जाने वाला औषधीय फल || Kilamora plant in hindi

उत्तराखंड के पहाड़ो में एक कंटेनुमा झाड़ी पर उगने वाला , नीला लाल फल ,जिसको  स्थानीय भाषा में किलमोड़ा या किनगोड़ा कहते हैं ,इसे हिंदी में दारुहल्दी कहते है। और संस्कृत में दारुहरिद्रा कहते हैं।  अप्रेल से जून के मध्य होने वाले इस दिव्य फल का आनंद सभी पहाड़ वाली बड़े चाव से लेते है। किलमोड़ा का बैज्ञानिक नाम बेरवेरीज एरिस्टाटा है। किनगोड़ा की लगभग 450 प्रजातियां पुरे संसार में पाई जाती हैं। यह उत्तराखंड के 1400 से 2000 मीटर तक की उचाई पर मिलता है। इसका पौधा लगभग 2  से 3 मीटर तक ऊँचा होता है। इसके फल नील वर्ण के और खट्टे मीठे स्वाद वाले होते हैं। kilmora plant in hindi

किलमोड़ा एक ऐसा पौधा है , जिसके जड़ तना , फल तीनो काम आतें ,हैं। उत्तराखंड के पहाड़ी भागों में संरक्षण के आभाव और अत्यधिक दोहन व जानकारी के अभाव में यह औषधीय पौधा धीरे धीरे विलुप्ति की ओर बढ़ रहा है। इसका संरक्षण और उत्पादन के लिए ठोस निति बनाने की आवश्यकता है। यह ऐसा पौधा जो हमारे पहाड़ी राज्य को आर्थिकी व् स्वरोजगार में मदद कर सकता है। kilmora plant in hindi

किलमोड़ा के फायदे  व् प्रयोग || benifits of kilmora plant

  • किलमोड़ा की जड़ शुगर की बीमारी में बेहद लाभदायक होती है।
  • पीलिया ,बुखार ,नेत्र रोगो में भी इसकी जड़ काफी लाभदायक है।
  •  इसकी जड़ से बरबरिस नामक होम्योपैथिक दवाई बनाई जाती है।
  • किन्गोड़ा की जड़ से अल्कोहल पेय भी बनाया जाता है।
  • दारुहल्दी  एंटी इंफलेन्ट्री ,एंटी ट्यूमर , एंटी वायरल गुण पाए जाते हैं।
  • इसके पत्ते और फलों  में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं ,जो कैंसर में लाभदायक होती है। इसे कैंसर की दवाओं में प्रयोग किया जाता है।
  • किल्मोड़ा से प्रकृतिक रंग भी तैयार किया जाता है।
  • इसके पूर्ण रूप से फुले हुए फुलों की चटनी भी बनती है।
  • यह गठिया बात  लाभदायक होता है।
  • किलमोड़े के फलों का जूस या किल्मोड़ा का जूस भी आजकल कई संस्थाए बना रही हैं। शुगर में किलमोड़े का जूस लाभदायक बताया जाता है।
  • किन्गोड़े का जूस भी सेहत के लिए लाभदायक है।
  • कुछ लोग किलमोड़े के पौधे में से तेल निकाल कर उसे दवाई कंपनियों को बेच रहे हैं।
किलमोड़ा
किलमोड़ा पादप | kilmora plant in hindi

किलमोरा मे पाए जाने वाले पोषक तत्व –

विभिन्न शोध पत्रिकाओं और अन्य स्वाथ्य पत्रिकाओं में किन्गोड़े में निम्न पोषक तत्वों का होना बताया गया है –

प्रति 10 ग्राम किल्मोड़ा में लगभग 6 .2 प्रतिशत प्रोटीन ,32 .91 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेड ,30 .47 mg  पॉलीफेनोल , 7 .9 3 mg  संघनित टेनिन ,31 .96 mg एस्कार्बिक एसिड , 4 .53 ग्राम कैरोटीन ,लाइकोपीन और माइक्रोग्राम 10 .62 mg  आदि पाए जाते हैं।  kilmora plant in hindi

 

नोट- यह  लेख  बिभिन्न शोद पत्रिकाओं तथा  अन्य  पत्रिकाओं  के आधार पर संकलित किया गया है।  यह लेख केवल शैक्षणिक उपयोग मात्र के लिए है।  दारुहल्दी का औषधीय प्रयोग करने से पूर्व अपने डाक्टर ,वैध से अवश्य पूछे। 

इन्हे भी पढ़े –

लिंगड़ा देवभूमि का एक औषधीय पादप , जिसकी सब्जी दिव्य गुणों से भरपूर है.

जम्बू व् गन्द्रायणी ,उत्तराखंड के दिव्य मशाले।

सिंगौड़ी मिठाई , उत्तरखंड का एक छुपा हुवा स्वाद।

उत्तराखंड का औषधीय फल हिसालु के लाभ और प्रयोग।

हमारे व्हाट्सअप ग्रुप में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Tag – kilmora plant in hindi || kilmora root || kilmora fruit


Pahadi Products

Related Posts