संस्कृति

काली कमली वाले बाबा || Kali Kamli wale baba

काली कमली वाले बाबा को  उत्तराखंड में तीर्थ यात्रियों के लिए सुगम रास्ते और धर्मशालाओं के निर्माण के लिए जाना जाता है। इन्हें स्वामी विशुद्धानंद के नाम से भी जाना जाता है। इनका जन्म वर्तमान पाकिस्तान के गुजरांवाला जिले के जलालपुर किकना नामक स्थान में सन 1831 में हुवा था। ये  भिल्लङ्गन शैव सम्प्रदाय से संबंध रखने के कारण, ये और इनका परिवार भगवान भोलेनाथ की तरह काला कंबल धारण करते थे। मात्र 32 वर्ष की आयु में ये सन्यास लेकर बन गए श्री 1008 स्वमी विशुद्धानंद काली कमली वाले बाबा।

सन्यास के उपरांत ये जब हिमालय की तीर्थ यात्रा पर गए , तब इन्हें तीर्थयात्रियों की यात्रा में आने वाली परेशानियों का अहसास हुआ। बाबा को उत्तराखंड से विशेष लगाव था। इन्होंने उत्तराखंड के तीर्थों के महत्व को समझा और यह हिमालयी क्षेत्र में तीर्थ यात्रा में आने वाली कठिनाइयों को महसूस किया। बाबा ने तीर्थयात्रा में आने वाली कठिनाइयों को दूर करने का प्रयास किया। तीर्थयात्रियों को सुविधा देने के लिए उन्होंने 1937 में  बाबा काली कमली वाले पंचायती क्षेत्र की स्थापना की।

काली कमली वाले बाबा
फोटो साभार सोशल मिडिया

इनके पवित्र प्रयास से ऋषिकेश में रेल का निर्माण, लक्ष्मण झूला पुल का पुनः निर्णाण कराया। जगह जगह पर यात्रा मार्गों का प्रबंध किया  तीर्थ यात्रियों के लिए जगह जगह पर , धर्मशाला और प्याऊ बनवावे ।

स्वामी विशुद्धानंद जी काली कमली वाले बाबा जी ने लगभग 33 वर्षों तक तीर्थ यात्रियों की सेवा की। कहा जाता है कि 1953 में स्वामी विशुद्धानंद जी हिमालय की तीर्थ यात्रा पर निकले उसके बाद दिखाई नही दिए।

इनके बाद इस संस्था के उत्तराधिकारी बाबा रामनाथ हुए । बाबा रामनाथ जी के बाद इस संस्था के उत्तराधिकारी बाबा मनीराम को बनाया गया । उन्होंने इस संस्था को पंजीकृत करके इसका ट्रस्ट बना दिया।

वर्तमान में इस संस्था द्वारा निम्न परोपकारी कार्य अविलम्ब किये जा रहे हैं।

  • लगभग 40 स्थानों पर साधु महात्माओं के लिए एवं प्रतिदिन 2000 व्यक्तियों के लिए भोजन वस्त्र आदि का दान किया जाता है।
  • ऋषिकेश में दो कुष्ठ आश्रमों के लिए अन्नदान।
  • गोशालाओं की स्थापना,अपाहिज गायों की प्राण रक्षा।
  • ऋषिकेश में पुस्तकालय, वाचनालय, संस्कृत विद्यालय, सत्संग भवन,अनाथालय, आत्मविज्ञान भवन 85 धर्मशालाओं का निर्माण किया।

बाबा काली कमली वाला पंचायती क्षेत्र ऋषिकेश की सबसे बड़ी संस्था है।

इन्हे भी पढ़े :

उत्तराखंड पलायन के दर्द को उकेरती यह करुण कहानी – पलायन की व्यथा का अंत

येलो थ्रोटेड मार्टिन ( yellow throated marten ) जिसे हम पहाड़ में चुथरोल या चुथरोउ कहते हैं ।

श्री देव सुमन जीवन परिचय ( 25 मई 1916 से 25 जुलाई 1944 ) | जन्म | शिक्षा | सामाजिक कार्य | जयंती | Shridev Suman biography hindi

हमारे वाट्सएप ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें