Saturday, March 2, 2024
Homeमंदिरहनुमान गढ़ी ,जहाँ की पत्तियां भी राम-नाम जपती हैं।

हनुमान गढ़ी ,जहाँ की पत्तियां भी राम-नाम जपती हैं।

ये बहुत कम लोगों को पता है कि ,अल्मोड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग में भवाली में स्थित कैंचीधाम के अलावा बाबा नीम करौली महाराज ने नैनीताल जिले में एक और मंदिर की स्थापना की थी। इस मंदिर का नाम है हनुमान गढ़ी । समुद्र ताल से 6401 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर हल्द्वानी -नैनीताल हाईवे पर नैनीताल से तीन किलोमीटर दूर स्थित है।

नीम करौली बाबा ने की थी हनुमान गढ़ी की स्थापना –

पवित्र कैंचीधाम के साथ -साथ बाबा नीमकरौली महाराज ने हनुमान गढ़ी की स्थापना की थी। बताते हैं कि यह मंदिर बनने से पहले यहां मिट्टी का टीला था। वहां बाबा नीम करौली बाबा ने लगभग एक साल तक तपस्या की थी। कहतें उस स्थान के पेड़ पौधे भी राम नाम जपते हैं। बाबा नीम करौली ने 1953 में इस मंदिर की स्थापना की थी। कहते हैं एक बार यहाँ भंडारे में घी कम पड़ गया था तो बाब नीम करौली जी  बगल  रखा एक पानी  कनस्तर कढ़ाई में पलट दिया था ,जो कढ़ाई में डालते ही घी बन गया था।

हनुमान जी के चमत्कारी मंदिरों में से एक है ये मंदिर ! साल भर भक्तों का ताँता लगा रहता है –

देश के प्रसिद्ध हनुमान मंदिरों में से एक है यह मंदिर। मंदिर परांगण में एक विशालकाय हनुमान जी की मूर्ति है। जिसके बारे में कहा जाता है कि वह उस क्षेत्र के लोगों की रक्षा करती है हवाई अड्डा  उस मूर्ति के ऊपर एक बड़ा छत्र भी है। मंदिर के आंतरिक भाग में भगवान बजरंगबली की एक  मूर्ति है जिसमे भगवान राम और माँ सीता की मनमोहक छवि बनती है। यहाँ वर्षभर श्रद्धालुओं का ताँता लगा रहता है। नैनीताल आने वाले लोग हनुमान गढ़ी अवश्य आते हैं। नव वर्ष पर विशेषकर बजरंगबली का आशीर्वाद लेने लोग अवश्य आते हैं।

हनुमान गढ़ी
फोटो साभार -सोशल मीडिया

कैसे पहुंचे हनुमान गढ़ी नैनीताल –

हनुमान गढ़ी नैनीताल जाने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है। और हवाई अड्डा पंतनगर है। नैनीताल से 3 किलोमीटर के आस पास दूर इस मंदिर के लिए हल्द्वानी \काठगोदाम से रोड माध्यम द्वारा सभी यातायात के साधन आसानी से मिल जाते हैं।

Best Taxi Services in haldwani

इन्हे भी पढ़े –

उत्तराखंड के इन हिल स्टेशनों में मनाइये नया साल 2024

गंगनानी – प्रयागराज से पहले यहाँ होता है गंगा और यमुना का संगम ।

हमारे साथ व्हाट्सप पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments