Thursday, May 30, 2024
Homeकुछ खासमेरा कॉलमउत्तराखंड के लोग अचानक कहाँ गायब हो रहें हैं ?

उत्तराखंड के लोग अचानक कहाँ गायब हो रहें हैं ?

हमारा उत्तराखंड एक बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है , इस समय किसी के भाई, माता ,बहन या उनके परिवार का कोई सदस्य लापता हो जा रहा है! पिछले कुछ समय से देख रहा हूं कि दिन पर दिन ऐसी घटनाएं बढ़ती जा रही हैं ।बच्चे से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक कोई भी लापता हो रहा है ।लापता होने की इतनी घटनाएं देखता हूं जिसकी कोई कल्पना नहीं .. और कितने लोगों के अपने लोग मृत मिल रहे हैं।

Hosting sale

हमारा पहाड़ वर्षों से शांत रहा है और अब कुछ पहाड़ को अशांत कर रहे हैं।

समस्या यह है कि हमारे पहाड़ के बच्चे शहर जाते हैं पढ़ाई के लिए, नौकरी के लिए और वह कभी लौट के नहीं आते.. यहां जब हम सुनते हैं तो  हमारे दिल के टुकड़े हो जाते हैं, हमारे पहाड़ को किसी की नजर लग गई है।

अगर हमारे पहाड़ में 100 लोग लापता हो रहे हैं तो उसमें से 10 लोग प्यार मोहब्बत के कारण भाग जाते हैं, 10 लोग घर में क्लेश लड़ाई झगड़े का कारण भाग जाते हैं और 80 लोग क्यों लापता हो रहे हैं इसका जवाब ना मेरे पास है ना ही आपके पास होगा और इसका जवाब खोजने कि हम लोग कोशिश भी नहीं कर रहे हैं यही दुख की बात है।

Best Taxi Services in haldwani

पहाड़ में बाहरी लोगों का आगमन बहुत ज्यादा बढ़ गया है शुरुआत में उनका कारोबार कुछ अलग होता है और बाद में उनका कारोबार बदल जा रहा है और यही इसका बड़ा कारण हो सकता है।

हमारा प्रशासन, हमारा सिस्टम हमारे नेता, हमारे राजा सब अपने-अपने में व्यस्त हैं हमारे पहाड़ से लोग त्रस्त हैं, पहाड़ के लोग पर्वत की तरह महान होते हैं लेकिन उनका दिल बर्फ की तरह पिघल जाता है वह किसी पर भी भरोसा करते हैं। और उसका खामियाजा हम सबको दिखाई दे रहा है। हम अपने पहाड़ के भाइयों को ,बहनों को, माताओं को और जो भी लापता हो रहे हैं उन्हें लापता होते हुए नहीं देख सकते। उन्हें बचाना है इसलिए सभी प्रशासन के साथी लोगों से हाथ जोड़कर निवेदन है कि आप इस विषय की पीड़ा को समझ खुद अपने आप महसूस कीजिए कि यह घटना आपके साथ हो रही हो तो आप क्या करोगे,  इसलिए हम इस समस्या की जड़ तक पहुंच सकते हैं अगर हम कोशिश करेगें तो एक समाधान मिल जाएगा लेकिन हर बार समाधान नहीं मिलेगा , इसलिए यह उत्तराखंड के लिए दाग है इस विनाश रूपी पेड़ को ही जला देना है, इसलिए पहाड़ में भू कानून भी लागू करना है। हमारा छोटा भाई अगर कोई शहर भी जाता है उसे फिर याद दिलाना पड़ेगा कि जिस पगडंडी से आप शहर जा रहे हो इसी रास्ते से आपको वापस भी आना है क्योंकि आपके माता-पिता की नजर लगातार उस छोटी सी पगडंडी पर बनी रहती है कि उसका बेटा कल पढ़ने के बाद वापस आएगा . उसी रास्ते को उनकी आंखें देखती रहती हैं उनकी आंखें कभी भी देखते-देखते थकती भी नहीं हैं इसलिए माता-पिता का प्रेम दुनिया का सबसे बड़ा प्रेम है और कुछ लोग आजकल 10 मिनट का प्रेम जाल दिखाकर और आपको बड़े-बड़े सपने दिखा कर अपने साथ ले जाते हैं और फिर आप से ना जाने क्या घिनौने काम करवाते हैं।

पहाड़ों में कितने लोग लापता हो रहे हैं उसमें से पुलिस प्रशासन के पास शिकायत भी बहुत कम लोग करते हैं क्योंकि लोगों का आरोप है कि पुलिस प्रशासन भी अच्छे तरीके से कार्य नहीं करता है लेकिन मैं इस बात से सहमत नहीं हूं हमें इस तरह की घटनाओं को तुरंत पुलिस प्रशासन को बताना चाहिए ताकि वह खोजबीन करें। अगर कोई नखरे दिखाए तो जिला अधिकारी से अवश्य संपर्क करें क्योंकि यह खतरा बहुत बड़ा है। अगर हम आज इस पर आवाज नहीं उठाते हैं तो कल बहुत बुरा देखने को मिलेगा। आज आपके साथ तो कल किसी और साथ भी हो सकता है इसीलिए आप अपने आप को जागरूक करें सावधान रहें समय बहुत खराब है।

लेखक  – दीपक जोशी भीमताल 

लेखक के बारे में  -दीपक जोशी जी उत्तराखंड भीमताल के मूल निवासी हैं। एक निजी कंपनी में नौकरी के साथ साथ, जोशी जी अपने यूट्यूब समाचार चैनल डिजिटल वाणी से और सोमेश्वर घाटी फेसबुक पेज में एडमिन के रूप में उत्तराखंड  की जनकल्याणकारी विषयों पर अपने विचार रखते हैं। तथा प्रमुख जनसमस्याओं का निवारण के लिए अग्रणीय रूप में तत्पर रहते हैं।

दीपक जोशी जी के चैनल डिजिटल वाणी से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

इसे भी पढ़े –
छउवा या चीला, शुभ कार्यों व त्योहारों पर बनने वाला पहाड़ी मीठा भोजन

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments