Wednesday, June 19, 2024
Homeकुछ खासउत्तराखंड में गणतुवा रोज करते हैं, बाबा बागेश्वर धाम की तरह चमत्कार

उत्तराखंड में गणतुवा रोज करते हैं, बाबा बागेश्वर धाम की तरह चमत्कार

आज कल श्री बागेश्वर धाम के पीठाधीश श्री धीरेन्द्र शास्त्री चर्चाओं में बने हुए हैं। चर्चाओं  का कारण है उनके द्वारा किये जाने वाला चमत्कार! जी हा श्रद्धालु इसे चमत्कार कह रहें हैं, और तथाकथित बुद्धिजीवी इसे विज्ञान या मैजिक ट्रिक कह रहें हैं। उनका चमत्कार या मैजिक ट्रिक यह है कि, वे ये जान लेते हैं सामने वाले के मन में क्या चल रहा है? वह किस विषय में सोच रहा है? उनकी इसी खूबी के सारे देश के लोग दीवाने हो रहे हैं। और दिन प्रतिदिन उनके समर्थक बढ़ते जा रहे हैं। अब वे चमत्कार कर रहे या विज्ञानं है, ये शोध का विषय है। लेकिन जिस चमत्कार के लोग दीवाने हो रहे, वही चमत्कार उत्तराखंड के पहाड़ों में लोग बरसों से करते आ रहे हैं, उन्हें हम पहाड़ में गणतुवा या पुछयारा कहते हैं।

उत्तराखंड की लोक भाषा में गणतुवा, पुछयारा, पुछेर या बाक्की वह व्यक्ति कहलाता है, जो आधिदैविक, अधिभौतिक व मानसिक कष्टों से पीड़ित व्यक्ति के द्वारा उनके कारणों और निवारण हेतु पूछे गए सवालों का शरीर में अवतरित दैवीय शक्ति के माध्यम से जवाब देता है। पुछयारी का  शाब्दिक अर्थ होता है, पूछताछ के आधार पर समाधान करने वाला। और गंतुवा का अर्थ होता है गणना करके समाधान देने वाला। वास्तव में गंतुवा पीड़ित के द्वारा लाये गए चावलों पर गणना करके अपना समाधान देता है।

इस कार्य हेतु गणतुवा प्रतिदिन स्नानदि से पवित्र होकर एक आसान पर बैठता है। एक मुट्ठी या सावा मुठ्ठी चावल के दाने पीड़ित के हाथ से छुवा कर या उसके सर से घुमा कर, गणतुवा के सामने रख देते हैं। वह बारी बारी से उन्हें उठाकर दैवीय आवेश में उनका परिक्षण करता है। इसके बाद वह उस पीड़ित के कष्टों और कारणों को बताता है। जो की प्रायः किसी देवी देवता  या पितृ की उपेक्षा किये जानेउन्हें  या उनके प्रति किये हुए वादे पूरा न किये जाने से कुपित होने के संबंध में होते हैं। इसके साथ शांत एवं संतुष्ट करने के उपाय भी बताता है।कई बार ये होता है कि मौसमी बिमारियों या भौतिक व्याधियों से परेशान लोग भी गंतुवा के पास जाते हैं। गंतुवा उन्हें कर्म रोग बताकर डॉक्टरी चिकत्सा लेने या परहेज करने की सलाह देते हैं।

अब सामने वाले के मन की बात जानना चमत्कार है तो, पहाड़ों के गणतुवा, पुछेर ये चमत्कार बरसों से कर रहे हैं। अगर ये विज्ञान या जादुई ट्रिक है तो पहाड़ के पुछेर या गंतुवे तारीफ के अधिकारी हैं, वे बिना किसी शिक्षा, बिना अभ्यास के आपकी मन की बात जान लेते हैं।

गणतुवा
गणतुवा
Best Taxi Services in haldwani

समाज में  जब कोई सामान्य मानवीय सामर्थ्य से अधिक कार्य करके दिखाता है तो उस समाज के सामान्य श्रद्धावान लोग उस कार्य को उस मानव का चमत्कार , दैवीय चमत्कार या देव वरदान के रूप में मानते हैं। और उसी समाज के तथाकथित बुद्धिजीवी लोग उस कार्य को मैजिक ट्रिक या विज्ञान से जोड़ते हैं। समाज में इस प्रकार की घटनाएं चलती रहती हैं। कई बार श्रद्धावान मनुष्यों का मत सही होता है ,क्योकि संसार में कभी -कभी ऐसी घटनाये घटित होती हैं जिनके आगे विज्ञानं के सिद्धांत भी बौने लगते हैं। और इन्ही अप्रत्याशित घटनाओं के कारण कई लोग अतिश्रद्धावान हो जाते है। उनकी ऐसी अतिश्रद्धा का लाभ समाज के कुछ चतुर लोग लाभ उठाते हैं। ये सिलसिला समाज में चलता रहता है।

इन्हे भी पढ़े: जल्द ही शुरू होगा पवित्र माघ मेला 2023 यहां देखिये स्नान तिथियां और कल्पवास का अर्थ।

नोट -प्रस्तुत लेख में हमारा उद्देश्य केवल इतना बताना है, कि जिस चमत्कार के बारे में देश में भीषण चर्चा का माहौल बना है ,वह चमत्कार हमारे पहाड़ों में बरसों से होता है, और यह पहाड़ वासियों के दैनिक जीवन का हिस्सा है। अब यह जादू है या चमत्कार यह शोध का विषय है।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments