कुमाउनी भजन

पहाड़ी भजन – भगवान श्रीकृष्ण भजन कुमाउनी में। “यशोदा मैया त्यर कन्हैया बड़ो झगड़ी ” || Pahadi bhajan | Kumaoni bhajan | krishna bhajan in pahadi | Pahadi bhajan Songs video |Janmashtami 2021 in Uttarakhand

कुमाउनी भजन लिरिक्स | Kumaoni Bhajan lyrics –

Janmashtami 2021 in Uttarakhand-

2021 में जन्माष्टमी उत्तराखंड में भी 30 अगस्त 2021 को मनाई जाएगी। पहाड़ो में जन्माष्टमी का त्यौहार आते ही,हम लोग एक पारम्परिक कुमाउनी भजन खूब गुनगुनाते थे। अभी भी कुछ लोग उस पारम्परिक पहाड़ी भजन को गुनगुनाते हैं। कुमाऊँ में जन्माष्टमी के दिन वही भजन गाया जाता है। आज आपके लिए उसी प्रसिद्ध कुमाऊनी भजन लिरिक्स ( kumaoni bhajan lyrics ) लाए हैं। श्रीकृष्ण जनमाष्टमी 2021 में इस भजन को गा के, भगवान श्रीकृष्ण को तो, खुश करेंगे ही, और आपने बचपन की यादें भी ताजा करेंगे -भजन इस प्रकार है –

 

“,यशोदा मैया त्यर कन्हैया “

 

यशोदा मैया त्यर कनहैया बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगडी।।

जमुना जी मे कूदी पड़ो, गिनुवा दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगडी।।

यशोदा मैया त्यर कन्हैया ….

जमुना जी मे लड़ी पड़ो ,कालिया दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगड़ी ।

गोपियों की मटकी  फोड़ू ,दगाड़ियाँ दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमरे दगड़ी।

यशोदा मैया त्यर कन्हया , बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगड़ी।।

घ्यू , माखन चोरी दिछो, दगड़िया दगड़ी।

झन लगाए ,गोरु ग्वावा हमू दगड़ी।

मधुबन में नाची पड़ो ,राधा दगड़ी। 

झन लगाए गोरु ग्वावा ,हमू दगड़ी।

यशोदा मैया त्यर कनहैया बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगडी।।

गोकुल में लड़ी पड़ो , पूतना दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमरे दगड़ी

यशोदा मैया त्यर कन्हया , बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा………

गोवर्धन में लड़ी पड़ो इन्द्र दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा ,हमू दगड़ी।।

वृंदावन में मुरली बजु, गोरुके दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगड़ी।

यशोदा मैया त्यर कन्हया , बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा………

मथुरा जी मे लड़ी पड़ो कंस दगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमरे दगड़ी।।

यशोदा मैया त्यर कनहैया बड़ो झगड़ी।

झन लगाए गोरु ग्वावा हमू दगडी।।

कुमाउनी भजन

कुमाउनी भजन का हिंदी अर्थ –

गोकुल वाले माँ यशोदा से प्रार्थना कर रहे हैं कि , हे यशोदा मैया ! अपने कन्हैया को हमारे साथ, गाय चराने मत, भेजना ये बहुत नटखट हैं। ये गेंद के बहाने यमुना जी मे कूद जाते हैं। और वहां कालिया नाग से लड़ जाते हैं। अपनी मित्रमंडली के साथ,गोपियों की मटकी फोड़ते हैं,तथा माखन चुराते हैं।हे यशोदा मैया आपसे निवेदन है,इन्हें हमारे साथ गायों के ग्वाले ना भेजें , आपके कन्हैया बहुत शैतानी करते हैं। ये मधुबन में राधा रानी संग रास रचाते हैं,तो पूतना के साथ लड़कर उसका वध कर देते हैं।और गोवर्धन पर्वत उठा कर इंद्र का घमंड चूर करते हैं। और मथुरा जी मे, कंस से लड़कर उसका वध करते हैं। अतः हे माँ आप कन्हैया को हमारे साथ ग्वाला ना भेजे ये बहुत नटखट हैं।

मित्रों यह था पारम्परिक कुमाउनी भजन, जिसे हम बचपन मे, और अभी भी जनमाष्टमी के दिन गाते थे, या गुनगुनाते थे। इस भजन में पहाड़ में कही-  कही  एकाधअलग अलग शब्दों का प्रयोग भी करते हैं। जैसे झगड़ी,को उजेड़ी भी बोलते हैं, यशोदा मैया को जशोदा मैया भी बोलते हैं। (Janmashtami 2021 in Uttarakhand )

इस कुमाउनी भजन का एक वीडियो मिला है। उसे देखे और इस पारम्परिक पहाड़ी भजन को सुने व देखें।

पहाड़ी भजन का वीडियो यहां देखे –

इन्हें भी पढ़े :-

कुमाऊं के लोक त्योहारों पर दिए जाने वाले आशीर्वचन पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

उत्तराखंड की लोक कथाओं में चमू देवता की पढ़ना चाहते हो तो यहां क्लिक करें।

उत्तराखंड ने लॉन्च किया, भारत का पहला भूकंप अलर्ट एप। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

उत्तराखंड में श्रीकृष्ण दाऊ भगवान बलराम का एकमात्र मंदिर के बारे जानने के लिए यहाँ देखें।

देवभूमी दर्शन के व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक करके जॉइन करें।

जशोदा मैया तेरो कन्हैया , गढ़वाली भजन सुनने के लिए यहां क्लिक करें।

Tag – Kumaoni bhajan lyrics | Kumauni krishna bhajan | Pahadi bhajan | Pahadi Janmashtami bhajan | Pahadi bhajan songs video |Janmashtami 2021 in Uttarakhand

 

Pahadi Products

Related Posts