काले कावा काले
कुछ खास

काले कावा काले घुघुती माला खा ले। घुघुतिया त्यौहार पर बच्चों द्वारा गाये जाने वाला गीत व् अर्थ

उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में मकर संक्रांति को घुघुतिया त्यौहार के रूप में मनाया जाता है।  मकर संक्रांति पर कुमाऊं का विशेष पकवान आटे और गुड़ के पाक के घुघुत बनाये जाते है। कौवे के लिए मकर संक्रांति के सारे पकवान के साथ घुघुत अलग निकाल लिए जाते हैं। घुघुतिया पर्व पर कौवों का विशेष महत्व होता है। घुघुतिया के दूसरे दिन बच्चे अपने गले में घुघुतों की माला डाल कर ,कौवे के लिए एक कटोरे में अलग से पकवान के साथ घुघुत रख कर ,काले कावा काले घुघुती माला खा ले गा कर कौवों को घुघुत खाने के लिए आमंत्रित करते हैं। और कौए घुघुत खा कर जाते हैं।

आखिर घुघुतिया त्यौहार पर कौवों को क्यों बुलाते हैं ? कुमाऊं में घुघुतिया क्यों मनाते है ?  इस पर कुमाऊं मंडल में प्रचलित लोक कथा है। कहते हैं पहले कुमाऊं मंडल में घुघुतिया नामक राजा था। . एक बार वह बहुत बीमार हो गया था। दवाई से ठीक न होने बाद ज्योतिषाचार्यों ने उसको बताया की उसकी ग्रह दशा में मारक योग चल रहा है। यदि राजा अपने नाम के आटे और गुड़ से बने पकवान कौवों को खिला दे तो उसकी मारक दशा शांत हो जाएगी। क्योंकि कौवों को काल का प्रतीक माना जाता है। राजा की प्रजा ने मकर संक्रांति के दिन आटे और गुड़ के घुघुत बनाये। दूसरे दिन सुबह सुबह कौओं को घुघुत खिला दिए। तबसे कुमाऊं में मकर संक्रांति के दिन घुघुत बनाये जाते हैं और कौओं को खिलाये जाते हैं।

काले कावा काले घुघुती माला खा ले गीत के बोल | kale kawa kale ghughuti mala kha le lyrics –

काले कावा काले । घुघुती मावा खा ले ।।

लै कावा लगड़ । मीके दे भे बाणों दगड़।।

काले कावा काले । पूस की रोटी माघ ले खाले ।

लै कावा भात । मीके दे सुनो थात ।।

लै कावा बौड़ । मीके दे सुनु घोड़।।

लै कावा ढाल । मीके दे सुनु थाल।।

लै कावा पुरि ।। मीके दे सुनु छुरी।।

काले कावा काले घुघुती माला खा ले।।

लै कावा डमरू ।। मीके दे सुनु घुंघरू ।।

लै कावा पूवा ।। मीके दीजे भल भल भुला।।

काले कावा काले। पुसे की रोटी माघ खा ले।।

काले कावा काले । घुघती माला खा ले ।

घुघुतिया त्यौहार के गीत का अर्थ  | kale kawa kale ghughuti mala kha le meaning –

इस कविता या गीत में छोटे बच्चे कौए से घुघुते और पकवान खाने का निवेदन करते हैं। और बदले में अच्छी -अच्छी चीजें मांगते हैं। काले कौवे हमारे  बनाये हुए घुघुते स्वीकार करो। और हमे अच्छा वरदान देकर जाओ। हे कौए आप पूरी खाओ और  मुझे भाई बहिनों का साथ दो। हे कौए आप पौष माह में बना पकवान माघ में खा लो। हे कौए आप चावल खाओ और मुझे खूब सारा सोना दो। हे कौए आप दाल दाल बड़ा खाओ ,मुझे सोने का घोडा दे दो। कौए आप आटे की बनी ढाल ले लो ,मुझे सोने की थाल दे दो। हे कौए आप आटे का बना डमरू ले लो। मुझे सोने के घुंगरू दे दो।

इन्हे भी पढ़े –

उत्तरायणी मेला का इतिहास व् धार्मिक और सांस्कृतिक महत्त्व

घुघुतिया त्यौहार 2023 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी।

हमारे व्हाट्सप ग्रुप में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।