Monday, May 27, 2024
Homeकुछ खासकाले कावा काले घुघुती माला खा ले, घुघुतिया त्यौहार पर बच्चों द्वारा...

काले कावा काले घुघुती माला खा ले, घुघुतिया त्यौहार पर बच्चों द्वारा गाये जाने वाला गीत व अर्थ

उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में मकर संक्रांति को घुघुतिया त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। मकर संक्रांति पर कुमाऊं का विशेष पकवान आटे और गुड़ के पाक के घुघुत बनाये जाते है। कौवे के लिए मकर संक्रांति के सारे पकवान के साथ घुघुत अलग निकाल लिए जाते हैं। घुघुतिया पर्व पर कौवों का विशेष महत्व होता है। घुघुतिया के दूसरे दिन बच्चे अपने गले में घुघुतों की माला डाल कर, कौवे के लिए एक कटोरे में अलग से पकवान के साथ घुघुत रख कर, काले कावा काले घुघुती माला खा ले गा कर कौवों को घुघुत खाने के लिए आमंत्रित करते हैं। और कौए घुघुत खा कर जाते हैं।

Hosting sale

आखिर घुघुतिया त्यौहार पर कौवों को क्यों बुलाते हैं? कुमाऊं में घुघुतिया क्यों मनाते है?  इस पर कुमाऊं मंडल में प्रचलित लोक कथा है। कहते हैं पहले कुमाऊं मंडल में घुघुतिया नामक राजा था। एक बार वह बहुत बीमार हो गया था। दवाई से ठीक न होने बाद ज्योतिषाचार्यों ने उसको बताया की उसकी ग्रह दशा में मारक योग चल रहा है। यदि राजा अपने नाम के आटे और गुड़ से बने पकवान कौवों को खिला दे तो उसकी मारक दशा शांत हो जाएगी। क्योंकि कौवों को काल का प्रतीक माना जाता है। राजा की प्रजा ने मकर संक्रांति के दिन आटे और गुड़ के घुघुत बनाये। दूसरे दिन सुबह सुबह कौओं को घुघुत खिला दिए। तबसे कुमाऊं में मकर संक्रांति के दिन घुघुत बनाये जाते हैं और कौओं को खिलाये जाते हैं।

काले कावा काले घुघुती माला खा ले गीत के बोल

काले कावा काले। घुघुती मावा खा ले।।
लै कावा लगड़। मीके दे भे बाणों दगड़।।
काले कावा काले। पूस की रोटी माघ ले खाले।
लै कावा भात। मीके दे सुनो थात।।
लै कावा बौड़। मीके दे सुनु घोड़।।
लै कावा ढाल। मीके दे सुनु थाल।।
लै कावा पुरि।। मीके दे सुनु छुरी।।
काले कावा काले घुघुती माला खा ले।।
लै कावा डमरू।। मीके दे सुनु घुंघरू।।
लै कावा पूवा।। मीके दीजे भल भल भुला।।
काले कावा काले। पुसे की रोटी माघ खा ले।।
काले कावा काले। घुघती माला खा ले।

इन्हे भी पढ़े: उत्तरायणी मेला का इतिहास व धार्मिक और सांस्कृतिक महत्त्व

घुघुतिया त्यौहार के गीत का अर्थ

Best Taxi Services in haldwani

इस कविता या गीत में छोटे बच्चे कौए से घुघुते और पकवान खाने का निवेदन करते हैं। और बदले में अच्छी -अच्छी चीजें मांगते हैं। काले कौवे हमारे  बनाये हुए घुघुते स्वीकार करो। और हमे अच्छा वरदान देकर जाओ। हे कौए आप पूरी खाओ और मुझे भाई बहिनों का साथ दो। हे कौए आप पौष माह में बना पकवान माघ में खा लो। हे कौए आप चावल खाओ और मुझे खूब सारा सोना दो। हे कौए आप दाल दाल बड़ा खाओ, मुझे सोने का घोडा दे दो। कौए आप आटे की बनी ढाल ले लो, मुझे सोने की थाल दे दो। हे कौए आप आटे का बना डमरू ले लो। मुझे सोने के घुंगरू दे दो।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments