Thursday, February 22, 2024
Homeराज्यकैंची धाम में ड्रेस कोड लागू ! अब शालीन वस्त्रों में आना...

कैंची धाम में ड्रेस कोड लागू ! अब शालीन वस्त्रों में आना होगा धाम में।

कैंची धाम मे ड्रेस कोड लागू –

प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तराखंड नैनीताल के प्रसिद्ध मन्दिर कैंची धाम में ड्रेस कोड लागू कर दिया गया है। इसके साथ-साथ कैंची धाम मन्दिर के अन्दर फोटो खीचनें पर भी  प्रतिबन्ध लगा दिया गया है। मन्दिर के बाहर और आस पास बोर्ड लगाकर श्रद्धालुओं से विनम्र अनुरोध किया गयाहै , कि श्री कैंची धाम मन्दिर की पवित्रता और मर्यादा का ध्यान रखते हुए, मन्दिर में मार्यादित वस्तों में प्रवेश करें।अमर्यादित और अशोभनीय वस्त्र पहन कर मन्दिर में प्रवेश न करें। मन्दिर के अन्दर पहुंचते ही मोबाईल silent कर दें और मन्दिर के अन्तर फोटोग्राफी और विडोयोग्राफी न करें।पकड़े जाने पर श्रद्धालू के खिलाफ़ कार्यवाही की जाएगी ।

कैंची धाम में ड्रेस

विश्व प्रसिद्ध है, बाबा नीम करोली का यह मन्दिर –

बाबा नीम करोली को समर्पित यह मन्दिर विश्व प्रसिद्ध है। यहां रोज श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। प्रतिवर्ष 15 जून को मन्दिर की स्थापना दिवस के अवसर पर विशाल भंडारे का आयोजन होता है। एप्पल कम्पनी के भाविक, फेसबुक के मालिक मार्क जुर्कवर्ग जैसी हस्तियों के से आमलोग तक बाबा के अनन्य भक्त है। कैंची धाम में ड्रेस कोड से पहले उत्तराखंड हरिद्वार के दलेश्वर मन्दिर और नीलकंठ मन्दिर में भी ड्रेस कोड लग चुका हैं ।

इन्हें भी पढ़े –

Best Taxi Services in haldwani

नीम करौली बाबा के चमत्कार की कहानियाँ || Neem karoli baba ke chamtkar

बटर फेस्टिवल – अगस्त में छास-माखन की होली वाला उत्तराखंड का अनोखा त्यौहार !

koti Kanasar | भीड़ से दूर शांति के लिए प्रसिद्ध है यह हिल स्टेशन !

सोमेश्वर के प्रसिद्ध मालपुए ,विलुप्त होते पारम्परिक स्वाद का आखिरी ठिकाना।

कुमाऊं रेजिमेंट जिसने बचाया था कश्मीर ! जानिए गौरवशाली इतिहास।

जोशीमठ को छोड़ कर क्यों आना पड़ा कत्यूरियों को ?

किथे रखा तेरा रेशमी रुमाल ट्रेंड कर रहा है आजकल । जानिए इसके बारे में !

पहाड़ी कहावत ” खसिया की रीस और भैस की तीस ” में छुपी है पहड़ियों की ये कमजोरी।

भगवान शिव के इस मंदिर से शुरू हुई थी उनके लिंग रूप में पूजा !

Follow us on Google News
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments