गणनाथ मंदिर
मंदिर

कार्तिक पूर्णिमा पर सोमेश्वर के गणनाथ मंदिर का विशेष महत्व है।

गणनाथ का अर्थ है ,गणो के स्वामी। भगवान भोलेनाथ को समर्पित गणनाथ मंदिर अल्मोड़ा मुख्यालय से लगभग 45 किमी दूर और समुद्र तल से  2116 मीटर की उचाई पर मल्ला स्युनरा में एक पुरानी गुफा में स्थित है। इस मंदिर में  अल्मोड़ा सोमेश्वर मार्ग पर रनबन से सात किलोमीटर की सीधी चढाई चढ़कर या अल्मोड़ा -बागेश्वर मार्ग पर ताकुला से 4 किलोमीटर पैदल चलकर पंहुचा जा सकता है।

यहाँ पर प्राचीन गुफा के अंदर मंदिर में शिवलिंग  के ऊपर वटवृक्ष की जड़ से चूने का दूधिया पानी टपकता रहता है , जिसे श्रद्धालु अमृत की बुँदे टपकना कहते हैं। यहाँ की विष्णु प्रतिमा के बारे में लोगों का  मानना है कि यह मूर्ति बैजनाथ मंदिर में हुवा करती थी। बाद में यहाँ लाकर स्थापित कर दी गई।  कुमाऊं के इतिहास में गणनाथ मंदिर का धार्मिक के साथ साथ ऐतिहासिक महत्त्व भी है। गोरखा शाशनकाल (1790 से 1815 ई  ) में यहाँ उनकी छावनी हुवा करती थी। 1815 ई  में अंग्रेजी सेना का सामना करते हुए ,गोरखा सेनापति हस्तिदल चौतरिया यही वीरगति को प्राप्त हुवा था। इसी वर्ष कुमाऊं के चाणक्य कहे जाने वाले हर्षदेव जोशी का देहावसान भी यही हुवा था।

गणनाथ मंदिर
फोटो साभार – भगवत नगरकोटी

गणनाथ मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा  और होली के शुभावसर पर मेलों का आयोजन भी होता है। कुछ दशक पूर्व कार्तिक पूर्णिमा का मेला जुवारियों की अपील कोर्ट भी हुवा करता था।  दीपवाली में हारे हुए जुवारी एक बार अपील के रूप में अपना भाग्य आजमाते थे। प्रसासनिक सख्तियों के बाद जुवे की परम्परा यहाँ समाप्त हो गई है।

कमलेश्वर मंदिर श्रीनगर गढ़वाल और  जागेश्वर मंदिर के सामान कार्तिकपूर्णिमा के अवसर पर निसंतान दंपत्ति , महिलाएं संतान की कामना के साथ यहाँ  बैकुंठ चतुर्दर्शी को दीप जागरण या खड़ दिया पूजा करती थी। लेकिन अब संतान सुख के लिए दैवीय उपायों में शिथिलता आने के कारण खड़ दिया पूजा भी लगभग बंद हो गई है।

संदर्भ – उत्तराखंड ज्ञानकोष

इन्हे भी पढ़े _

कमलेश्वर महादेव मंदिर में खड़ा दीया जागरण से होती है ,निःसंतानों की मनोकामना पूर्ति।

मुंशी हरि प्रसाद टम्टा , उत्तराखंड में दलित और शोषित जातियों के मसीहा।

हमारे व्हाट्सप ग्रुप से जुड़ने हेतु यहाँ क्लिक करें। .