Thursday, May 30, 2024
Homeसंस्कृतित्यौहारपहाड़ की बूढ़ी दीवाली का जश्न अभी बाकी है।

पहाड़ की बूढ़ी दीवाली का जश्न अभी बाकी है।

बूढ़ी दीवाली 2023 :-

“देश भर में अपनी अलग और अनोखी संस्कृति के लिए प्रसिद्ध उत्तराखंड के जौनसार बावर क्षेत्र और हिमाचल के कुछ क्षेत्रों में दीवाली 12 दिसम्बर 2023 को मनाई जाएगी ।जिसे पहाड़ की बूढ़ी दीवाली कहते हैं। यह पर्व दीवाली के ठीक एक माह बाद मनाया जाता है। और इसी के साथ उत्तरकाशी की गंगा घाटी में मंगसीर बग्वाल और यमुना घाटी में देवलांग बड़े धूम धाम से मनाई जाती है। ” दीवाली से जुड़ा उत्तराखंड का एक लोक पर्व ईगास बग्वाल 23 नवंबर 2023 को मनाया जायेगा।

Hosting sale

जैसा कि हमे ज्ञात है, कि समस्त गढ़वाल  में 4 बग्वाल मनाई जाती है। इन बग्वालों मे गढ़वाल, कुमाऊं और जौनसार उत्तराखंड की तीनों संस्कृतियों की अपनी दीवाली मनाई जाती है। जिसे बूढ़ी दीवाली के नाम से जानते है। हरिबोधनी एकादशी को गढ़वाल के कुछ क्षेत्रों में इगास बग्वाल के रूप में बूढ़ी दीवाली जाती है  । और  देव दीवाली ,कार्तिक पूर्णिमा को कुमाऊं क्षेत्र में बूढ़ी दीवाली मनाई जाती है। वहीं मुख्य दीवाली के ठीक एक माह बाद जौनसार में बूढ़ी दीवाली मनाई जाती है । यह पारम्परिक पर्व पांच दिन तक चलता है। पटाखों प्रदूषण से मुक्त और आपस मे एकता और खुशियों का संदेश देने वाली ये दीवाली असली eco friendly deewali होती है। यह दीवाली कुल मिलाकर 5 दिन की होती है। पहले दिन छोटी दीवाली, दूसरे दिन रणदयाला , तीसरे दिन बड़ी दीवाली , चौथे दिन बिरुड़ी और पांचवे दिन जनदोई मेले के साथ दीवाली का समापन होता है।

जौनसार में बूढ़ी दीवाली मनाने के पीछे अलग अलग मत हैं। बड़े बूढ़े बुजुर्गों के अनुसार यहां ,भगवान राम के वापस आने का पता एक माह बाद चला इसलिए यहाँ एक माह बाद यहां दीवाली मनाते हैं। जबकि यहां के युवाओं का मत हैं कि, मुख्य दीवाली के समय खेती का काम चल रहा होता है। सबको एक साथ इक्क्ठा होने का समय भी नही होता। एक माह बाद सब काम निपटाकर सब मिल कर खुशियां मनाते हैं।

कुछ इस प्रकार मनाई जाती है, जौनसार  की बूढ़ी दीवाली :-

जौनसार की पहाड़ की बूढ़ी दीवाली के दिन , परम्परा अनुसार गाँव के कुछ दूर लकड़ियों का ढेर बनाते हैं। इसे होला कहते हैं। पहले दिन रात को होला जला कर , ढोल दमू के साथ नाचते गाते, मशाल जलाते हैं। और मशाल लेकर दीवाली के गीत गाते हुए ,गाव आते हैं। बूढ़ी दीवाली के दूसरे दिन पंचायत भवन के आंगन में अलाव जलाकर । नाचते गाते हैं। ( बूढ़ी दीवाली )

खास है बूढ़ी दीवाली की भिरूढ़ि परम्परा :-

Best Taxi Services in haldwani

जौनसार की बूढ़ी दीवाली पर भिरूढ़ि परम्परा बहुत खास है। इस परंपरा में लोग पंचायत भवन के आंगन में अपने इष्ट देवता के नाम के अखरोट जमा करते हैं, और दीवाली के गीत गाते हैं । दीवाली के गीत के बाद ,गाव का मुखिया इन अखरोटों को आंगन में फैला देता है। और लोग इन्हें देव प्रसाद के रूप में अधिक से अधिक एकत्र करने की कोशिश करते हैं।

पारम्परिक परिधान ,जौनसारी लोक गीतों व लोकनृत्य के साथ पहाड़ की बूढ़ी दीवाली का मजा दोगुना हो जाता है । :-

इस त्योहार पर महिलाएं व पुरूष एकत्र होकर , जौनसारी लोकगीत गाते हैं। और जौनसारी नृत्य हारुल, रासो ,नाटी आदि का आनंद लेते हैं। इस त्यौहार की खासियत यह है, कि यहां के लोग इसे अलग अलग नगरों में नही मनाते, बल्कि अपने गावँ जाकर ,एकसाथ पारम्परिक वस्त्रों में धूम धाम से मनाते हैं।

इसे भी पढ़िए :- अनोखा मंदिर है, रवाईं घाटी के पोखू देवता का मंदिर , जहाँ पीठ घुमाकर होती है पूजा। 

खास होते हैं  बूढ़ी दीवाली पर बनने वाले च्युड़े ( चिवड़े ):-

जौनसार की बूढ़ी दीवाली में , मेहमानों को चिवड़ा , मूडी व अखरोट देते हैं। दीवाली का खास आकर्षण होता है। पहाड़ों प्रसिद्ध व्यंजन चिवड़ा । चिवड़ा चावल से बना एक विशेष खाद्य है। जो काफी समय तक चलता है। चिवड़ा बनाने के लिए , धान को कई दिन पहले से भिगाने डाल देते हैं। उसके बाद उसे आंछ में सेक कर , ओखली में कूट कर चपटे कर दिया जाता है। और साफ करके इसको खाते हैं।  चिवड़े का प्रयोग कुमाऊं में मुख्य दीवाली में किया जाता है। कुमाऊं में यम द्वितीया पर बग्वाई त्योहार मनाया जाता है।

इन्हे भी पढ़े _

गज्जू मलारी की अमर प्रेम कथा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
Igas bagwal 2023 | उत्तराखंड का लोक पर्व ईगास बग्वाल मनाई जाएगी धूम धाम से
छोटी दीपावली पर खास होता है उत्तराखंड का यमदीप उत्सव या यमदीप मेला।

Follow us on Google News Follow us on WhatsApp Channel
Bikram Singh Bhandari
Bikram Singh Bhandarihttps://devbhoomidarshan.in/
बिक्रम सिंह भंडारी देवभूमि दर्शन के संस्थापक और लेखक हैं। बिक्रम सिंह भंडारी उत्तराखंड के निवासी है । इनको उत्तराखंड की कला संस्कृति, भाषा,पर्यटन स्थल ,मंदिरों और लोककथाओं एवं स्वरोजगार के बारे में लिखना पसंद है।
RELATED ARTICLES
spot_img
Amazon

Most Popular

Recent Comments