पितर
लोककथाएँ

पितर अब क्यों नहीं आते ! कुमाऊनी लोक कथा।

कहते हैं पहले मृत्यु को प्राप्त होने के बाद पितर अपने बच्चों के शुभ -अशुभ कार्यों  को देखने के लिए आते थे। और उनके काम -धाम भी हाथ बटा जाते थे। बहुत पहले की बात है ,पहाड़ में एक माँ बेटी रहती थी। दुर्भाग्यवश माता का देहांत हो गया। बेटी अकेले रह गई। एक बार […]

पहाड़ में
मेरा कॉलम समाचार विशेष

आखिर क्यों पहाड़ में आशोज को बारिश ने आषाढ़ में बदल दिया

पहाड़ में आशोज ( अश्विन माह ) में खेती का काम अपने चरम पर होता है।पहाड़ में यह माह अत्यधिक काम का प्रतीक माना जाता है। इस माह खरीप की फसल के साथ घास काट कर मवेशियों के लिए जमा करके रखते हैं। पहाड़ो में आजकल लोग पुरे तन मन धन से अपनी फसलों को […]